World

यूयूक्रेन के बाद इस देश को सबक सिखाने की तैयारी में रूस, बॉर्डर पर भेजीं खतरनाक मिसाइल

alt
Russia Ukraine War: नाटो देशों के गठबंधन में शामिल होने की घोषणा करने वाले फिनलैंड (Finland) और स्वीडन (Sweden) को रूस ने सबक सिखाने का फैसला किया है. राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के आदेश पर इन दोनों देशों की सीमाओं पर खतरनाक परमाणु मिसाइलों की तैनाती का काम शुरू हो गया है. सड़कों पर परमाणु बम ले जाने में सक्षम इस्कंदर मिसाइलों (Iskander Missiles) को फिनलैंड सीमा की ओर कूच करते देखा गया है. माना जा रहा है कि नाटो के विस्तार को रोकने के लिए रूस किसी भी हद तक जा सकते हैं.

10 सेकंड में फिनलैंड का सफाया: रूस
रूसी राष्ट्रपति पुतिन ने दोनों देशों को चेतावनी दी थी कि पश्चिमी सैन्य गठबंधन नाटो में शामिल होना उनके लिए बड़ी गलती होगी लेकिन दोनों देशों ने इस चेतावनी पर कोई ध्यान नहीं दिया है और अपनी पारंपरिक तटस्थता की नीति को त्यागते हुए नाटो देशों के गठबंधन में शामिल होने का फैसला किया है. ऐसे में रूसी राष्ट्रपति अब और खतरनाक रूप लेते नजर आ रहे हैं. मास्को ने क्लियर कर दिया है कि अगर फिनलैंड (Finland) नाटो में शामिल होता है तो वह इसका गंभीर परिणाम भुगतने के लिए तैयार रहे. वह केवल 10 सेकंड में दुनिया से फिनलैंड का सफाया कर सकता है. 

इस्कंदर मिसाइलों को व्योबर्ग भेजा गया

‘द सन’ की रिपोर्ट के मुताबिक रूस की घातक परमाणु बम ले जाने वाली इस्कंदर मिसाइलों (Iskander Missile) का एक बेड़ा Vyborg की ओर जाता दिखाई दिया. फिनलैंड की सीमा से केवल 24 किलोमीटर दूर बसा यह रूस का आखिरी शहर है. सूत्रों के मुताबिक फिनलैंड (Finland) और स्वीडन को सबक सिखाने के लिए रूस जल्द ही इन देशों के लिए एक नई मिलिट्री यूनिट का गठन करने वाला है. इसके लिए इस्कंदर मिसाइलों के पूरे एक डिवीजन को व्योबर्ग में भेजा जा रहा है. ये मिसाइलें कम दूरी के टारगेट को हिट करने और नाटो बलों का मुकाबला करने के लिए बनाई गई हैं. 

310 किलोमीटर है मिसाइल की रेंज
यूक्रेन के खिलाफ इस साल 24 फरवरी से शुरू हुए स्पेशल मिलिट्री ऑपरेशन में ये रूस के प्रमुख हथियार रहे हैं. शॉर्ट रेंज वाली इन बैलिस्टिक मिसाइलों का इस्तेमाल परमाणु वारहेड ले जाने या परंपरागत विस्फोटक ले जाने के लिए भी किया जा सकता है. इन मिसाइलों की रेंज 310 किलोमीटर है. इस्कंदर मिसाइलों को बंकर-बस्टिंग और एंटी-रडार मिशनों के लिए भी तैनात किया जा सकता है. 
पुतिन ने नाटो देशों को चेतावनी दी है कि अगर उसने यूक्रेन संघर्ष में कोई हस्तक्षेप किया तो बिजली की तेज गति से उसके खिलाफ जवाब दिया जाएगा. रूस के उप विदेश मंत्री सर्गेई रयाबकोव ने कहा कि दो स्कैंडिनेवियाई देशों (फिनलैंड और स्वीडन) को इस बात में कोई भ्रम नहीं होना चाहिए कि हम उनकी हरकतों पर चुपचाप  बैठे रहेंगे. 

रूस के चैनल ने फिनलैंड की दी धमकी

रूस के न्यूज चैनल Rossiya One के एक कमेंटेटर ने कहा, ‘उनका आधिकारिक कारण डर है. लेकिन उन्हें नाटो में शामिल होने के बाद अधिक डर रहेगा. जब स्वीडन (Sweden) और फिनलैंड (Finland) में नाटो के ठिकाने दिखाई देंगे, तो रूस के पास इस असंतुलन और नए खतरे को बेअसर करने के परमाणु हथियारों की तैनाती के अलावा कोई विकल्प नहीं होगा.’

रूस और फिनलैंड में 830 मील की सीमा

फिनलैंड (Finland) की रूस के साथ 830 मील की सीमा लगती है. वह 75 वर्षों तक सैन्य रूप से गुटनिरपेक्ष रहा है. यूक्रेन पर रूस के हमले के बाद फिनलैंड ने अपनी सुरक्षा पर खतरा बताते हुए नाटो में जुड़ने के लिए कदम उठाने शुरू किए हैं. राष्ट्रपति शाऊली निनिस्टो और प्रधान मंत्री सना मारिन ने इन नीतिगत बदलाव को नए युग की शुरुआत बताया है. वहीं रूस का दावा है कि नाटो में शामिल होने का फैसला द्विपक्षीय संबंधों को नुकसान पहुंचाएगा. 

स्वीडन भी चला फिनलैंड की राह पर

स्वीडन (Sweden) ने भी फिनलैंड (Finland) की तरह जल्द ही नाटो में शामिल होने का फैसला किया है. सत्तारूढ़ सोशल डेमोक्रेट्स ने भी नाटो में शामिल होने की कोशिश का समर्थन किया है. इसी बीच 14 नाटो देशों के 15,000 सैनिकों ने बाल्टिक्स में एक विशाल सैन्य अभ्यास शुरू कर दिया है. ‘Siil’ नामक यह अभ्यास रूसी बेस से केवल 40 मील की दूरी पर होगा.

‘कैंसर से पीड़ित व्लादिमीर पुतिन गंभीर रूप से बीमार’, लीक ऑडियो-टेप में बड़ा खुलासा

alt
Vladimir Putin Health Update: रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के स्वास्थ्य को लेकर लंबे समय से कई तरह के दावे होते रहे हैं. लेकिन अभी तक पुतिन के स्वास्थ्य संबंधी दावों में कोई सच्चाई देखने को नहीं मिली है. अब ब्रिटेन के पूर्व जासूस क्रिस्टोफर स्टील ने पुतिन के बारे में चौंका देने वाला दावा किया है.

कौन हैं क्रिस्टोफर स्टील?
ब्रिटेन के पूर्व जासूस क्रिस्टोफर स्टील ने रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के गंभीर रूप से बीमार होने का दावा किया है. बता दें कि स्टील ने डोनाल्ड ट्रम्प पर एक डोजियर लिखा था और 2016 के अमेरिकी चुनाव अभियान में रूसी हस्तक्षेप का आरोप लगाया था. अब उन्होंने स्काई न्यूज से बात करते हुए कहा है कि हम रूस और अन्य जगहों के स्रोतों से जो सुन रहे हैं, वह यह है कि पुतिन निश्चित रूप से गंभीर रूप से बीमार हैं.’

लीक ऑडियो टेप में खुलासा
इस बीच एक लीक हुए ऑडियो टेप की चर्चाओं ने भी जोर पकड़ा हुआ है. जिसमें पुतिन के साथ घनिष्ठ संबंध रखने वाले शख्स ने भी कथित तौर पर कहा है कि रूसी नेता ब्लड कैंसर से पीड़ित हैं. इस शख्स को पश्चिमी पूंजीपति के साथ पुतिन के स्वास्थ्य पर चर्चा करते हुए सुना गया था. लीक हुई यह ऑडियो रिकॉर्डिंग अमेरिकी पत्रिका न्यू लाइन्स के हाथ लगी है.

पुतिन ने कराई थी पीठ सर्जरी?

लीक ऑडियो टेप के हवाला देते हुए कहा जा रहा है कि यूक्रेन पर आक्रमण का आदेश देने के कुछ समय पहले पुतिन ने ब्लड कैंसर से जुड़ी अपनी पीठ की सर्जरी कराई थी. इसमें यह भी कहा गया है कि रूसी राष्ट्रपति पागल हो गए हैं.

रूसी राष्ट्रपति को लेकर अटकलें

यूक्रेन युद्ध के बाद से रूसी राष्ट्रपति के गिरते स्वास्थ्य के बारे में अटकलें लगाई जा रही हैं. व्लादिमीर पुतिन पिछले सप्ताह विजय दिवस समारोह सहित सार्वजनिक कार्यक्रमों में भी पहले की तुलना में कुछ कमजोर दिखे.

मीडिया रिपोर्ट्स में किया गया दावा

इस महीने की शुरुआत में मीडिया रिपोर्टों में दावा किया गया था कि रूसी राष्ट्रपति कैंसर की सर्जरी करवा सकते हैं और इस दौरान अस्थायी रूप से सुरक्षा परिषद के प्रमुख और पूर्व संघीय सुरक्षा सेवा (FSB) के कमांडर निकोलाई पेत्रुशेव को सत्ता सौंपेंगे.