UP Violence Action: UP के अपर पुलिस महानिदेशक प्रशांत कुमार ने बताया कि राज्य के 8 जिलों से 325 लोगों को गिरफ्तार किया गया है और इस संबंध में 9 जिलों में 13 FIR दर्ज की गईं.

UP Violence Action: उत्तर प्रदेश पुलिस ने पैगंबर मोहम्मद पर भारतीय जनता पार्टी (BJP) की निलंबित प्रवक्ता नूपुर शर्मा (Nupur Sharma) की कथित आपत्तिजनक टिप्पणी के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान हुई हिंसा के सिलसिले में अब तक कुल 13 FIR दर्ज की और 325 आरोपियों को गिरफ्तार किया है. राज्य के 8 जिलों में शुक्रवार को जुमे की नमाज के बाद शर्मा की कथित टिप्पणी के खिलाफ प्रदर्शन किए गए थे.

अपर पुलिस महानिदेशक (कानून-व्यवस्था) प्रशांत कुमार ने सोमवार की सुबह जारी एक बयान में बताया, ‘राज्य के 8 जिलों से 325 लोगों को गिरफ्तार किया गया है और इस संबंध में 9 जिलों में 13 FIR दर्ज की गईं.’

इन जिलों में इतने लोग गिरफ्तार

जिलेवार ब्यौरा देते हुए कुमार ने बताया, ‘प्रयागराज में 92, सहारनपुर में 80, हाथरस में 51, आंबेडकर नगर में 41, मुरादाबाद में 35, फिरोजाबाद में 16, अलीगढ़ में 6 और जालौन में 4 लोगों को गिरफ्तार किया गया है.’ कुमार ने बताया कि प्रयागराज और सहारनपुर में तीन-तीन प्राथमिकी तथा फिरोजाबाद, अलीगढ़, हाथरस, मुरादाबाद, आंबेडकरनगर, खीरी और जालौन में एक-एक प्राथमिकी दर्ज की गई है.

शुक्रवार को भड़की थी हिंसा

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कानपुर जिले में तीन जून को हुई हिंसा और इसके बाद विभिन्न जिलों में शुक्रवार को जुमे की नमाज के बाद भड़की हिंसा की घटनाओं का संज्ञान लेकर पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों को निर्देश दिए थे कि उपद्रवियों के खिलाफ कार्रवाई जारी रखी जाए. प्रयागराज और सहारनपुर समेत राज्य के कई जिलों में शुक्रवार को जुमे की नमाज के बाद लोगों ने नारेबाजी की थी और पथराव किया था.

जुमे की नमाज के बाद हुई हिंसा

लखनऊ में उत्तर प्रदेश पुलिस मुख्यालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि सहारनपुर, मुरादाबाद, रामपुर और लखनऊ जिलों से नमाज के बाद नारेबाजी की सूचना मिली थी. उन्होंने कहा कि सहारनपुर, मुरादाबाद और रामपुर में जुमे की नमाज के बाद लोगों ने सड़कों पर नारेबाजी की थी.

पुलिस के मुताबिक लखनऊ के चौक इलाके में स्थित टीले वाली वाली मस्जिद के अंदर भी कुछ देर के लिए नारेबाजी हुई थी. गत 3 जून को कानपुर के कुछ हिस्सों में भी हिंसा भड़क गई थी.

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.