Asia Cup 2022: टीम इंडिया को एशिया कप 2022 के सुपर 4 में शर्मनाक प्रदर्शन के बाद बाहर होना पड़ा. जिसके बाद इस बात पर भी सवाल उठ रहे हैं कि टीम इंडिया वर्ल्ड कप जीत पाएगी या नहीं. 

Team India: आगामी टी20 विश्व कप से पहले एशिया कप टी20 टूर्नामेंट में भारत के लचर प्रदर्शन से टीम प्रबंधन को जवाब कम मिले लेकिन सवाल अधिक उठने लगे. ग्रुप चरण में पाकिस्तान और हॉन्ग कॉन्ग के खिलाफ जीत दर्ज करने के बाद टीम ‘सुपर फोर’ में पाकिस्तान और श्रीलंका के खिलाफ दबाव के क्षणों में बिखर गई.

विराट ने ठोका था शतक

विराट कोहली हालांकि अपने शतकों के सूखे को खत्म करने में सफल रहे जिससे क्रिकेट फैंस ने राहत की सांस ली. उनका शतक हालांकि अफगानिस्तान के खिलाफ ऐसे मैच में आया जो महत्वहीन था. यही नहीं, अफगानिस्तान की टीम को पिछले दिन बेहद करीबी मैच खेलने के 20 घंटे के अंदर दूसरी बार मैदान पर उतरना पड़ा वह भी दूसरे शहर में. भारत के लिए शीर्ष तीन बल्लेबाजी क्रम में केएल राहुल के पावरप्ले में विकेट बचाने की योजना टीम की मुश्किलें बढ़ा रही है.

कोहली का बड़ा बयान

कोहली ने बीसीसीआई डॉट टीवी के लिए रोहित से बातचीत के दौरान कहा, ‘हमें उसे अच्छी स्थिति में रखना होगा क्योंकि हम जानते हैं कि वह क्या करने में सक्षम है.’ कोहली की नाबाद शतकीय पारी के बाद इस तरह की मांग भी उठ रही कि वह रोहित के साथ पारी का आगाज करें और तीसरे क्रम पर सूर्यकुमार यादव बल्लेबाजी के लिए आए. ऐसे में राहुल को एकादश से बाहर बैठना पड़ सकता है. इसमें कोई शक नहीं की राहुल के पास प्रतिभा की कोई कमी नहीं है लेकिन वह एशिया कप में अपनी प्रतिष्ठा के अनुसार बल्लेबाजी करने में विफल रहे.

मिडिल ऑर्डर है कमजोर

मध्यक्रम में भी टीम की मुश्किलें कम नहीं हुई. दिनेश कार्तिक को शुरुआती मैचों में खेलने का मौका मिला लेकिन उन्हें 10 से भी कम गेंदों का सामना करने को मिला. टेस्ट मैचों में अपनी आक्रामक बल्लेबाजी से टीम को कई यादगार जीत दिलाने वाले पंत इस फॉर्मेट में अब तक अपनी ख्याति के अनुरूप प्रभावित नहीं किया है.  ऑलराउंडर हार्दिक पंड्या भी शुरुआती मैच में पाकिस्तान के खिलाफ किए गए मैच जिताऊ प्रदर्शन को दोहराने में नाकाम रहे. मध्यक्रम में दीपक हुड्डा के रूप में टीम के पास अच्छा विकल्प है.

रवींद्र जडेजा की खलेगी कमी

गेंदबाजी विभाग में रवींद्र जडेजा की गैरमौजूदगी से भारतीय टीम को झटका लगेगा. उनके विकल्प अक्षर पटेल गेंदबाजी में अच्छा करते रहे है लेकिन बल्ले से वह टीम को जडेजा की तरह लचीलापन मुहैया नहीं करते. जडेजा आखिरी ओवरों में बड़े शॉट खेलने के साथ टीम की जरूरत के मुताबिक मध्यक्रम में बल्लेबाजी भी कर सकते है जैसा उन्होंने पाकिस्तान के खिलाफ किया था. भुवनेश्वर कुमार ने पाकिस्तान के खिलाफ 19वें ओवर में 19 रन देने के बाद श्रीलंका के खिलाफ भी उसी गलती को दोहराया. अफगानिस्तान के खिलाफ उन्होंने पांच विकेट जरूर लिए लेकिन टीम को उनसे दबाव में बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद है.

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You missed