Team India: इंटरनेशनल क्रिकेट में टी20 की शुरुआत साल 2006 में हुई थी. इस फॉर्मेट में भारत के 3 बड़े खिलाड़ी ऐसे भी हैं जिनका पहला टी20 मैच ही करियर का आखिरी टी20 मैच था.

Team India: टीम इंडिया ने अपना पहला टी20 इंटरनेशनल मैच दिसम्बर 2006 में साउथ अफ्रीका के खिलाफ खेला था, इस मुकाबले में भारत की 6 विकेट से जीत भी हुई थी. वहां से अब तक भारत ने टी20 इंटरनेशनल में 167 मैच खेले है जिसमें से टीम को 106 मैचों में जीत मिली है और 53 मैच हारे हैं. लेकिन आज हम आपको ऐसे 3 भारतीय खिलाड़ियों के बारे में बताएंगे  जिनका टी20 करियर का पहला मैच ही आखिरी मैच बन गया था. 

दिनेश मोंगिया (Dinesh Mongia)

टीम इंडिया के इतिहास के पहले ही टी20 मैच में दिनेश मोंगिया (Dinesh Mongia) प्लेइंग 11 का हिस्सा थे, लेकिन वे इस मैच के बाद कभी भी टीम इंडिया के लिए टी20 मैच नहीं खेल सके थे. इस मैच में दिनेश मोंगिया ने 45 गेंद का सामना किया था और 38 रन बनाए थे. इस पारी में उनके बल्ले से चार चौके और एक छक्का निकला था. मोंगिया को आईपीएल में भी खेलने का मौका कभी नहीं मिला. इस तरह से उनका डेब्यू टी20 मैच आखिरी मैच साबित हुआ, दिनेश मोंगिया ने 18 साल के लम्बे करियर के बाद संन्यास लिया था. 

राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid)

भारतीय टीम के मौजूदा हेड कोच राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) ने भी भारत के लिए केवल एक टी20 मैच खेला है. 31 अगस्त 2011 को टी20 क्रिकेट में राहुल द्रविड़ ने डेब्यू किया था. द्रविड़ ने इंग्लैंड के खिलाफ ये मैच खेला था. राहुल द्रविड़ ने इसमें ताबड़तोड़ बल्लेबाजी करते हुए 21 गेंद में 31 रन बनाए थे, खास बात ये है कि इस मैच में द्रविड़ ने समित पटेल के एक ओवर में लगातार तीन छक्के भी जड़े थे. ये मैच पहला और आखिरी टी20 इंटरनेशनल मैच था. 

सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar)

दुनिया के सबसे सफल बल्लेबाज और क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाले सचिन तेंदुलकर ने भी अपने अपने करियर में सिर्फ एक टी20 इंटरनेशनल मैच खेला था. सचिन ने साउथ अफ्रीका के खिलाफ टी20 में डेब्यू किया था. इस मैच में सचिन ने 12 गेंदों में सिर्फ 10 रन ही बनाए थे. इस मैच में उन्होंने 2.3 ओवर गेंदबाजी भी की जिसमें 12 रन खर्च किए और 1 विकेट अपने नाम किया था. इसके बाद वे फिर कभी भारतीय टीम के लिए टी20 इंटरनेशनल क्रिकेट में नहीं खेले.

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.