Sports

भारत की हार पर भड़का ये दिग्गज, कहा- बुमराह को बाहर कर इस खतरनाक बॉलर को दो मौका

IND vs SA: वनडे सीरीज में अबतक भारत के बड़े-बड़े स्टार खिलाड़ियों का प्रदर्शन एकदम खराब रहा है. इन्हीं खिलाड़ियों में एक नाम टीम के वाइस कैप्टन जसप्रीत बुमराह (Jasprit Bumrah) का भी रहा है. 

नई दिल्ली: साउथ अफ्रीका दौरे पर टीम इंडिया (Team India) का बुरा समय खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है. पहले भारतीय टीम को साउथ अफ्रीका ने टेस्ट सीरीज में 2-1 से मात दी. इसके बाद अब वनडे सीरीज में भी भारत को हार झेलनी पड़ी है. इस सीरीज में अबतक भारत के बड़े-बड़े स्टार खिलाड़ियों का प्रदर्शन एकदम खराब रहा है. इन्हीं खिलाड़ियों में एक नाम टीम के वाइस कैप्टन जसप्रीत बुमराह (Jasprit Bumrah) का भी रहा है. बुमराह अपने नाम के हिसाब का प्रदर्शन इस सीरीज में कुछ नहीं कर पाए हैं. अब एक दिग्गज ने उन्हें टीम से बाहर करने की मांग उठा दी है. 

‘बुमराह को किया जाए टीम से बाहर’

वनडे सीरीज में स्टार तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह (Jasprit Bumrah) का प्रदर्शन ज्यादा अच्छा नहीं रहा और वो मुश्किल समय में टीम इंडिया को विकेट दिलाने में नाकामयाब रहे. दूसरे वनडे में भी बुमराह सिर्फ एक ही विकेट ले पाए और वो टीम इंडिया 7 विकेट से ये मैच हार गई. अब विकेटकीपर बल्लेबाज दिनेश कार्तिक (Dinesh Karthik) ने मांग की है कि टीम से ड्रॉप कर दिया जाए. कार्तिक का कहना है कि टीम में मोहम्मद सिराज और प्रसिद्ध कृष्णा जैसे युवा गेंदबाजों को मौका दिया जाए. 

क्रिकबज से बातचीत करते हुए कार्तिक ने कहा, ‘मैं निश्चित रूप से चाहता हूं कि प्रसिद्ध या सिराज खेलें. इसलिए, टीम इंडिया के लिए यह बहुत महत्वपूर्ण है कि वे उस आक्रमण में गति जोड़ने का एक तरीका खोजें जो उन्हें शांत विकेटों पर मदद करे. इसलिए, मुझे लगता है कि उनमें से एक खेल सकता है और यह बहुत अच्छा है. वो बुमराह या भुवी को आराम दे सकते हैं, यह उनके ऊपर है. लेकिन मैं इनमें से किसी एक गेंदबाज को गेंदबाजी करते हुए देखना चाहता हूं. मुझे लगता है कि वे फर्क कर सकते हैं, खासकर पारी के बीच में जहां उन्हें विकेट नहीं मिलते हैं.’

भुवनेश्वर भी रहे फ्लॉप

ये कहना गलत नहीं होगा कि दक्षिण अफ्रीका दौरे के बाद टीम इंडिया के सबसे दिग्गज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार (Bhuvneshwar Kumar) का करियर खत्म हो सकता है. भुवी को अब इससे ज्यादा मौके देना भी गलत ही होगा. भुवी एक बार फिर पूरी तरह फ्लॉप रहे. भुवी ने 8 ओवरों में 67 रन दे डाले और उन्हें एक विकेट भी नहीं मिला. उनकी जगह अगले मैच में मोहम्मद सिराज को मौका दिया जा सकता है. 

भारतीय गेंदबाज रहे बेअसर 

भारतीय गेंदबाज शुरुआत से ही अपनी लय में नजर नहीं आए और अफ्रीकी बल्लेबाजों ने उनके खिलाफ मैदान के हर तरफ स्ट्रोक लगाए. भुवनेश्वर कुमार बहुत ही महंगे साबित हुए उन्होंने सबसे ज्यादा रन लुटाए और उन्हें कोई भी विकेट नहीं मिला. जसप्रीत बुमराह (Jasprit Bumrah), युजवेंद्र चहल और शार्दुल ठाकुर को 1-1 विकेट मिला. वेंकटेश अय्यर ने अपने 5 ओवर के कोटे में 28 रन दिए और कोई भी विकेट हासिल नहीं कर सके. बुमराह के अलावा सभी भारतीय गेंदबाजों ने जमकर रन लुटाए. इसी वजह से भारत को हार का सामना करना पड़ा. 

टीम इंडिया का ये पूर्व स्टार खिलाड़ी हुआ कोरोना पॉजिटिव, खुद दी इस बात की जानकारी

 भारतीय क्रिकेट के महान स्पिनर हरभजन सिंह अपनी जादुई गेंदबाजी के लिए जाने जाते हैं. हरभजन सिंह कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं. उन्होंने खुद इस बात की जानकारी दी है. 

नई दिल्ली: भारतीय क्रिकेट के महान स्पिनर हरभजन सिंह अपनी जादुई गेंदबाजी के लिए जाने जाते हैं. उनकी गेंदों को खेलना किसी भी बल्लेबाज के लिए आसान नहीं था. ये पूर्व स्पिनर कोविड-19 पॉजिटिव पाया गया है. हरभजन सिंह ने अपने ट्विटर अकाउंट से इस बात की जानकारी दी है. उन्होंने यह भी कहा है कि जो लोग भी उनके संपर्क में आए हैं वो भी जल्दी से अपना कोरोना टेस्ट करा लें. आपको बता दें कि हरभजन ने कुछ समय पहले ही संन्यास की घोषणा की थी. 

हरभजन सिंह हुए कोरोना पॉजिटिव 

हरभजन सिंह ने अपनी कोविड पॉजिटिव होने की जानकारी ट्विटर पर देते हुए बताया है कि मेरा कोविड टेस्ट पॉजिटिव आया है, मैंने घर में खुद को आइसोलेट कर लिया है और सभी आवश्यक सावधनियां बरत रहा हूं. मैं लोगों से अनुरोध करूंगा जो मेरे संपर्क में आए थे, वे जल्द से जल्द अपना परीक्षण करवाएं, कृपया सुरक्षा का ध्यान रखे. हरभजन सिंह की गिनती भारत के महान स्पिनरों में होती है. अभी कुछ दिन पहले ही उनकी पत्नी गीता बसरा भी कोरोना पॉजिटिव आईं थी. 

हरभजन का रहा है शानदार करियर 

हरभजन सिंह अपनी गुगली गेंदों के लिए फेमस थे. उनके फैंस प्यार से उन्हें भज्जी बुलाते हैं. हरभजन सिंह ने भारत के लिए 103 टेस्ट मैचों में 417 विकेट, 236 वनडे मैचों में 269 विकेट और 28 टी20 मुकाबलों में 25 झटके हैं. वह 2011 वर्ल्ड कप और 2007 टी20 वर्ल्ड कप का भी हिस्सा रहे थे. उन्होंने अपने दम पर टीम इंडिया को कई मैच जिताए हैं. पिछले साल दिसंबर में इस जादुई स्पिनर ने रिटायरमेंट ले लिया था. हरभजन सिंह आईपीएल में कोलकाता नाइटराइडर्स और मुंबई इंडियंस की तरफ से खेल चुके हैं. 

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ ली थी हैट्रिक 

हरभजन सिंह ने अपने करियर के शुरुआती दिनों में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सीरीज में हैट्रिक लेकर सभी को अपना दीवाना बना लिया था. उस सीरीज में उन्होंने 32 विकेट अपने नाम किए थे. आईपीएल में भी भज्जी ने अपनी गेंदबाजी का जलवा दिखाया है. उन्होंने 163 मैचों में 150 विकेट हासिल किए हैं. 

इस घातक विकेटकीपर ने खत्म की सेलेक्टर्स की टेंशन, वनडे टीम से कर देगा पंत का सफाया!

IND vs SA: टेस्ट क्रिकेट में कमाल का प्रदर्शन करने वाले भारतीय टीम के विकेटकीपर ऋषभ पंत (Rishabh Pant) सीमित ओवर क्रिकेट में फ्लॉप हो रहे हैं. अब समय आ गया है कि पंत की जगह किसी दूसरे विकेटकीपर को मौका दिया जाए.  

नई दिल्ली: साउथ अफ्रीका के खिलाफ तीन मैचों की टेस्ट सीरीज में 2-1 से हारने वाली टीम इंडिया से उम्मीद की जा रही थी कि वो वनडे सीरीज में अच्छी वापसी करेगी. हालांकि परिणाम एकदम उलटा रहा और टीम इंडिया पहले मैच में 31 रनों से हार कर सीरीज में 1-0 से पीछे हो गई. लगातार टेस्ट क्रिकेट में कमाल का प्रदर्शन करने वाले भारतीय टीम के विकेटकीपर ऋषभ पंत (Rishabh Pant) सीमित ओवर क्रिकेट में फ्लॉप हो रहे हैं. अब समय आ गया है कि पंत की जगह किसी दूसरे विकेटकीपर को मौका दिया जाए. 

ये विकेटकीपर छीनेगा पंत की जगह

वनडे और टी20 में लगातार ऋषभ पंत (Rishabh Pant) के फ्लॉप होने के बाद अब समय आ गया है कि उन्हें टीम से बाहर कर दिया जाए. उनकी जगह लेने के लिए एक घातक विकेटकीपर पहले से ही टीम में मौजूद है. ये विकेटकीपर और कोई नहीं बल्कि युवा ईशान किशन (Ishan Kishan) हैं. सिर्फ 23 साल के इस प्लेयर की बल्लेबाजी पूरी दुनिया ने देखी है और अब अगले मैच में ईशान को पंत की जगह मौका दिया जा सकता है. ईशान एक खतरनाक बल्लेबाज हैं और उन्होंने अपने टी20 और वनडे डेब्यू पर ही हाफ सेंचुरी के साथ शुरुआत की थी. ईशान को कल होने वाले दूसरे वनडे मुकाबले में मिडिल ऑर्डर में आजमाया जा सकता है. 

ऋषभ पंत रहे फ्लॉप

दूसरे वनडे में एक समय पर भारतीय टीम जीत की तरफ बढ़ रही थी. विराट कोहली (Virat Kohli) और शिखर धवन (Shikhar Dhawan) ने शानदार हॉफ सेंचुरी लगाकर टीम को जीत के मुहाने तक पहुंचा दिया था, लेकिन टीम इंडिया (Team India) का मिडिल ऑर्डर बुरी तरीके से फेल रहा. कोहली-शिखर के आउट होने के बाद रन बनाने का सबसे बड़ा जिम्मा ऋषभ पंत (Rishabh Pant) पर था, लेकिन वह रन बनाने में बिल्कुल विफल रहे. उन्होंने 22 गेंदों में 16 रन बनाए. ऋषभ पंत एक बार फिर एक बड़ी पारी खेलने में नाकाम रहे और अपना विकेट यू हीं सस्ते में गंवा चले.

कप्तान रोहित को भी पसंद ईशान

बता दें कि इस सीरीज से पहले सीमित ओवर कप्तान रोहित शर्मा (Rohit Sharma) चोटिल होने के बाद बाहर हो गए. लेकिन अगली सीरीज में ये खिलाड़ी वापसी कर रहा है. ऐसे में ईशान किशन (Ishan Kishan) को मौका मिलने का भी एक बड़ा चांस है. ईशान रोहित के खास खिलाड़ियों में से एक हैं और वो पिछले कुछ सालों से उन्हीं की कप्तानी में मुंबई इंडियंस के लिए खेलते हुए आए हैं. ईशान भी पंत की तरह युवा हैं और वो सीमित ओवर में भारत के लिए कारगर साबित हो सकते हैं. 

भारत की करारी शिकस्त

दक्षिण अफ्रीका (South Africa) ने पार्ल (Paarl) शहर के बोलैंड पार्क (Boland Park) में खेले गए इस वनडे मैच में टीम इंडिया (Team India) को 31 रन से करारी शिकस्त दी और 3 मैचों की सीरीज में 1-0 की अहम बढ़त हासिल की. टीम इंडिया को जीत के लिए 297 रन का टारगेट मिला था, लेकिन ‘केएल राहुल एंड कंपनी’ 50 ओवर में 8 विकेट खोकर महज 265 रन ही बना सकी. शिखर धवन (Shikhar Dhawan) ने 84 गेंदों में 79 रन की पारी खेल कर शानदार शुरुआत दिलाई. विराट कोहली (Virat Kohli) ने भी उनका साथ निभाते हुए 52 रन जोड़े.  

रोहित-विराट नहीं, इस प्लेयर ने बचाई भारत की लाज, ICC की टी20 टीम में इकलौती भारतीय

आईसीसी (ICC)  ने साल की अपनी सर्वश्रेष्ठ टी20 महिला टीम चुनी है. भारत की स्टार ओपनर बल्लेबाज स्मृति मंधाना को अच्छे प्रदर्शन का ईनाम मिला है और उन्हें टीम में शामिल किया गया है. 

नई दिल्ली: आईसीसी (ICC)  ने साल की अपनी सर्वश्रेष्ठ टीम चुनी है. भारत की स्टार सलामी बल्लेबाज स्मृति मंधाना को बुधवार को 2021 में क्रिकेट के सबसे छोटे प्रारूप में शानदार प्रदर्शन के कारण बुधवार को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (ICC) की साल की सर्वश्रेष्ठ महिला टी20 टीम में जगह मिली, लेकिन कोई भारतीय पुरुष टीम में जगह नहीं बना पाया. 

स्मृति ने किया कमाल 

टी20 प्रारूप में भारतीय टीम की उप कप्तान और बायें हाथ की बल्लेबाज मंधाना 2021 में 31.87 की औसत से 255 रन बनाकर भारत की शीर्ष स्कोरर रहीं. पच्चीस साल की इस बल्लेबाज ने नौ मैच में दो अर्धशतक जड़े और टीम को नियमित रूप से तेज शुरुआत दिलाई. इस दौरान उनका स्ट्राइक रेट 131.44 रहा. मंधाना टीम में शामिल एकमात्र भारतीय हैं. इंग्लैंड की कई खिलाड़ियों को टीम में जगह मिली है और नैट स्किवर को टीम का कप्तान बनाया गया है. 

इंग्लैंड की खिलाड़ी बनी कप्तान 

इंग्लैंड की अनुभवी आलराउंडर स्किवर ने पूरे साल शानदार प्रदर्शन किया. मध्यक्रम में बल्लेबाजी करते हुए उन्होंने एक अर्धशतक से कुल 153 रन बनाए और 20.20 के औसत से 10 विकेट भी चटकाए. पारी का आगाज करने की जिम्मेदारी मंधाना के साथ इंग्लैंड की टैमी ब्युमोंट को सौंपी गई है. तीस साल की ब्युमोंट ने इंग्लैंड को नियमित रूप से प्रभावी शुरआत दिलाई है. उन्होंने नौ मैच में तीन अर्धशतक की मदद से 33.66 की औसत के साथ 303 रन बनाए. टीम में शामिल इंग्लैंड की अन्य खिलाड़ी डैनी वाट, विकेटकीपर एमी जोन्स और स्पिनर सोफी एकलेस्टोन हैं. आयरलैंड की गैबी लुईस, दक्षिण अफ्रीका की लॉरा वोलवार्ट, शब्निम इस्माइल और मारिजेन कैप तथा जिंबाब्वे की लॉरिन फिरी को अंतिम एकादश में जगह मिली है. 

पुरुष टीम में कोई भी भारतीय नहीं

आईसीसी की 2021 की साल की सर्वश्रेष्ठ पुरुष टी20 टीम में किसी भारतीय को जगह नहीं मिली है. पाकिस्तान के तीन खिलाड़ियों को टीम में जगह मिली है, जिसमें कप्तान बाबर आजम भी शामिल हैं, जिन्हें टीम की कप्तानी सौंपी गई है. टी20 विश्व कप में शानदार प्रदर्शन करने वाले सलामी बल्लेबाज मोहम्मद रिजवान और शाहीन अफरीदी भी टीम में शामिल हैं. ऑस्ट्रेलिया को टी20 वर्ल्ड कप खिताब दिलाने में अहम भूमिका निभाने वाले ऑलराउंडर मिशेल मार्श और तेज गेंदबाज जोश हेजलवुड भी टीम में शामिल हैं जबकि दक्षिण अफ्रीका के ऐडन मार्कराम, डेविड मिलर और तबरेज शम्सी को भी टीम में जगह मिली है।

टीमें इस प्रकार हैं:

महिला: स्मृति मंधाना, टैमी ब्युमोंट, डैनी वाट, गैबी लुईस, नैट स्किवर (कप्तान), एमी जोन्स, लॉरा वूलवार्ट, मारिजेन कैप, सोफी एकलेस्टोन, लॉरिन फिरी और शब्निम इस्माइल. 

पुरुष: जोस बटलर, मोहम्मद रिजवान, बाबर आजम (कप्तान), ऐडन मार्कराम, मिशेल मार्श, डेविड मिलर, तबरेज शम्सी, जोश हेजलवुड, वानिंदु हसारंगा, मुस्तफिजुर रहमान और शाहीन अफरीदी. 

विराट कोहली के कप्तानी छोड़ने के बाद पहली बार बोले केएल राहुल, बताया आगे का प्लान

भारतीय वनडे कप्तान केएल राहुल (KL Rahul) ने भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच वनडे सीरीज (IND vs SA ODI Series) को लेकर कई अहम बाते कहीं हैं. साथ ही उन्होंने विराट कोहली (Virat Kohli) को लेकर भी कमेंट किया है.

नई दिल्ली: विराट कोहली (Virat Kohli) ने हाल ही में भारतीय टेस्ट टीम की कप्तानी से इस्तीफा दे दिया था. अब वनडे टीम के कप्तान केएल राहुल (KL Rahul) ने इसको लेकर अपना रिएक्शन दिया है. साल ही उन्होंने भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच वनडे सीरीज (India vs South Africa ODI Series) से पहले अपना प्लान बताया है.

विराट पर क्या बोले केएल राहुल?

केएल राहुल (KL Rahul) ने पहले वनडे मैच की पूर्व संध्या पर प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, ‘विराट कोहली ने टीम में जीत का यकीन भरने में अहम रोल अदा किया था. हमें जरूरत की हम टीम का निर्माण करते रहें और आगे बढ़ते रहें.’

धोनी को भी किया याद

केएल राहुल (KL Rahul) ने पिछले दोनों कप्तानों की तारीफ करते हुए कहा, ‘हमने विराट कोहली (Virat Kohli) और एमएस धोनी (MS Dhoni) की कप्तानी में कुछ हैरतअंगेज काम किए हैं अब हम वही माइंडसेट के साथ आगे बढ़ना चाहते हैं.’

केएल राहुल करेंगे ओपनिंग

टीम इंडिया (Team India) के वनडे कप्तान केएल राहुल (KL Rahul) ने ये साफ किया है कि वो भारत और दक्षिण अफ्रीका (India vs South Africa) के बीच वनडे सीरीज (ODI Series) में ओपनिंग करेंगे.

वेंकटेश होंगे छठे गेंदबाज!

भारतीय टीम लंबे वक्त से लिमिटेड ओवर्स क्रिकेट में छठे गेंदबाज की कमी का सामना कर रही है. केएल राहुल (KL Rahul) ने इस बात की तरफ इशारा किया है कि दक्षिण अफ्रीका (South Africa) के खिलाफ ऑलराउंडर वेंकटेश अय्यर (Venkatesh Iyer) को इस रोल में उतारा जा सकता है.

विराट कोहली के बाद इस स्टार क्रिकेटर की कप्तानी पर खतरा, कबाड़ा परफॉरमेंस बनेगी वजह

विराट कोहली (Virat Kohli) ने टीम की खराब परफॉरमेंस के बाद टेस्ट कप्तानी छोड़ी है. अब एक और क्रिकेटर हैं जिसकी कैप्टनसी कभी भी जा सकती है क्योंकि उनकी टीम का रिजल्ट अच्छा नहीं रहा है.

नई दिल्ली: विराट कोहली (Virat Kohli) ने 15 जनवरी 2022 को टीम इंडिया (Team India) की टेस्ट कप्तानी से इस्तीफा दिया. दक्षिण अफ्रीका (South Africa) में रेड बॉल सीरीज 1-2 से हारने को इसकी सबसे बड़ी वजह बताई जा रही है. ‘विराट सेना’ से इस टूर पर रवाना होने से पहले काफी उम्मीदें थीं जो चकनाचूर हो गईं.

विराट के बाद खतरे में इस प्लेयर की कप्तानी 

विराट कोहली (Virat Kohli) के अलावा एक और स्टार टेस्ट कैप्टन हैं जिन्हें अपनी कप्तानी से इस्तीफा देना पड़ सकता है, जिसकी वजह है टीम की फ्लॉप परफॉरमेंस, जी हां हम बात कर रहे हैं इंग्लैंड (England) के कप्तान जो रूट (Joe Root) की जो जल्द ही अपनी पोस्ट से इस्तीफा दे सकते हैं, या फिर उन्हें हटाया जा सकता है.

रूट की कप्तानी में इंग्लैंड एशेज 4-0 से हारी 

जो रूट (Joe Root) की कप्तानी में इंग्लैंड क्रिकेट टीम (England Cricket Team) को ऑस्ट्रेलिया दौरे पर एशेज में 4-0 की करारी शिकस्त मिली है. कंगारुओं ने इस सीरीज में अंग्रेजों को पूरी तरह मसल डाला.  जिसके बाद रूट की कैप्टनसी पर खतरा और गहरा हो गया.

भारत के खिलाफ नहीं चला इंग्लैंड का सिक्का

जो रूट (Joe Root) की कप्तानी में इंग्लैंड (England) को भारत दौरे पर टेस्ट सीरीज में 1-2 के अंतर से हार मिली थी. इसके बाद भारतीय टीम जब इंग्लैंड के दौरे पर गई तो मेजबान टीम 1-2 से पीछे हो गई अब एशेज टेस्ट सीरीज में 4-0 की करारी हार के बाद इंग्लिश सेलेक्टर्स कड़ा फैसला ले सकते हैं.

खिलाड़ी के तौर पर हिट रहे रूट

जो रूट (Joe Root) पिछले 1 साल में भले ही बतौर कप्तान नाम रहे हों, लेकिन उनका खुद का प्रदर्शन वर्ल्ड क्लास रहा. उन्होंने बीते कैलेंडर ईयर में 15 टेस्ट खेले जिसमें 61.00 की औसत से कुल 1708 रन बनाए, जिसमें 228 उनका सर्वाधिक निजी स्कोर रहा. इस दौरान उन्होंने 6 शतक और 4 अर्धशतक जड़े.

तोड़ सकते थे मोहम्मद यूसुफ का रिकॉर्ड

एक कैलेंडर ईयर में सबसे ज्यादा टेस्ट रन (Most Runs in a Calendar Year in Test) का रिकॉर्ड पाकिस्तान के मोहम्मद यूसुफ (1788 रन) के नाम था जो उन्होंने साल 2006 में बनाया था, दूसरे नंबर पर वेस्टइंडीज के विवियन रिचर्ड्स हैं जिन्होंने 1976 में 1710 रन बनाए थे. 1708 रन के आंकड़े के साथ तीसरे नंबर पर जो रूट (Joe Root) हैं.

क्यों पिछड़ गई इंग्लिश टेस्ट टीम?

जो रूट (Joe Root) के इस शानदार प्रदर्शन का ज्यादा फायदा इंग्लैंड क्रिकेट टीम (England Cricket Team) को  नहीं मिल पाया क्योंकि बाकी अंग्रेज खिलाड़ी रूट की तरह शानदार प्रदर्शन करने में नाकाम रहे.

वीरेंद्र सहवाग से गानों की सिफारिश करता था ये पाकिस्तानी, तोड़ चुका है धोनी का वर्ल्ड

 दुनिया के महान विकेटकीपर बल्लेबाजों की जब बात होती है तो सबसे पहले बात महेंद्र सिंह धोनी की होती है, लेकिन ओवरऑल टी20 क्रिकेट में पाकिस्तान के कामरान अकमल ने धोनी का रिकॉर्ड तोड़ा हुआ है. 

नई दिल्ली: दुनिया के महान विकेटकीपर बल्लेबाजों की जब बात होती है तो सबसे पहले बात महेंद्र सिंह धोनी की होती है. पाकिस्तान के पूर्व विकेटकीपर बल्लेबाज कामरान अकमल ने धोनी से पहले ही कई रिकॉर्ड स्थापित कर दिए थे. कामरान अकमल की गिनती पाकिस्तान के बेहतरीन बल्लेबाजों में होती है. 

100 स्टम्पिंग करने वाले पहले विकेटकीपर

कामरान अकमल ओवरऑल टी20 क्रिकेट में 100 स्टम्पिंग कर चुके हैं. 2020 में लीग के दौरान अकमल टी20 क्रिकेट में 100 स्टंपिंग करने वाले दुनिया के पहले विकेटकीपर बने थे. उनसे पहले क्रिकेट के इस फॉर्मेट में कोई भी विकेटकीपर ये कारनामा नहीं कर सका है.

धोनी और संगकारा से आगे निकल चुके हैं अकमल

कामरान अकमल के बाद महेंद्र सिंह धोनी का नाम आता है. धोनी 84 स्टंपिंग के साथ इस रिकॉर्ड लिस्ट में दूसरे नंबर पर हैं. वहीं श्रीलंका के कुमार संगाकारा 60 स्टंपिंग के साथ इस लिस्ट में तीसरे नंबर पर हैं. दिनेश कार्तिक के खाते में 59 स्टंपिंग हैं और वह इस लिस्ट में चौथे नंबर पर हैं, जबकि 52 स्टंपिंग के साथ अफगानिस्तान के मोहम्मद शहजाद इस लिस्ट में पांचवें नंबर पर हैं.

कामरान अकमल का पूरा क्रिकेट करियर

39 वर्षीय कामरान अकमल ने पाकिस्तान के लिए 53 टेस्ट खेलते हुए 2648 रन बनाए हैं. उनके नाम टेस्ट में 6 शतक और 12 अर्धशतक दर्ज हैं. 154 वनडे खेलने वाले कामरान ने अपने करियर में 3168 रनों में 5 शतक और 10 पचासे लगाए हैं. उन्होंने 54 टी-20 में पांच अर्धशतक की बदौलत 897 रन बनाए हैं. कामरान अकमल ने अपना आखिरी वनडे 2017 और आखिरी टेस्ट मैच 2010 में खेला था.

अकमल ने की थी सहवाग से गाना सुनाने की फरमाइश

कामरान अकमल से जुड़ा एक किस्सा खुद वीरेंद्र सहवाग ने बताया था. सहवाग के मुताबिक जब वे मुल्तान में बल्लेबाजी कर रहे थे तब कामरान अकमल उनसे किशोर कुमार के गानों की सिफारिश कर रहे थे. सहवाग के बारे में अक्सर कहा जाता है कि वे बैटिंग करते वक्त गाने गुनगुनाते रहते थे.

टीम इंडिया में होता ये सुपरस्टार खिलाड़ी, तो यकीनन SA के खिलाफ सीरीज जीत जाता भारत!

India vs South Africa: भारत टीम साउथ अफ्रीका के खिलाफ सीरीज 2-1 से हार चुकी है. साउथ अफ्रीका दौरे पर टीम इंडिया को एक धाकड़ खिलाड़ी की कमी खलती रही. ये प्लेयर चंद गेंदों में मैच बदलने के लिए जाना जाता है. 

नई दिल्ली: साउथ अफ्रीका (South Africa) के खिलाफ भारतीय टीम (Indian Team) सीरीज 2-1 से हार गई. टीम इंडिया को खिताब जीतने का प्रबल दावेदार माना जा रहा था, लेकिन टीम इंडिया (Team India) अपनी खराब बल्लेबाजी के कारण बढ़िया प्रदर्शन नहीं कर पाई. भारतीय टीम (Indian Team) में एक ऐसा धाकड़ खिलाड़ी शामिल नहीं था, जो क्रीज पर आते ही चौकों और छक्कों की बरसात कर देता है. ये प्लेयर अपने दम पर मैच पलटने के लिए जाना जाता है. 

इस खिलाड़ी की खली कमी 

साउथ अफ्रीका (South Africa) दौरा शुरू होने से पहले ही टीम के उपकप्तान (Vice Captian) और सुपरस्टार बल्लेबाज (Superstar batsman) रोहित शर्मा (Rohit Sharma) अपनी चोट की वजह से बाहर हो गए, जिससे टीम को एक धमाकेदार ओपनर की कमी पूरे दौरे पर महसूस होती  रही. रोहित शर्मा (Rohit Sharma) की जगह मयंक अग्रवाल (Mayank Agarwal) से ओपनिंग कराई गई, लेकिन वो इसमें बुरी तरीके से फेल हुए और साउथ अफ्रीका (South Africa) दौरे पर कोई भी बड़ी पारी नहीं खेल पाए. मयंक कभी भी केएल राहुल (KL Rahul) के साथ मिलकर टीम को अच्छी शुरुआत नहीं दिला पाए, जिसकी वजह से टीम इंडिया को हार का सामना करना पड़ा. 

शानदार बल्लेबाज हैं रोहित शर्मा 

रोहित शर्मा (Rohit Sharma) हमेशा से ही अपनी तूफानी पारी के लिए जाने जाते हैं. उन्होंने अपने दम पर टीम इंडिया को कई मैच जिताए हैं. उनकी बल्लेबाजी (batting) देखकर कई बॉलर्स खौफ खाते हैं. रोहित ओपनिंग करते हुए टीम इंडिया (Team India) को धमाकेदार शुरुआत दिलाते हैं, जिससे पर बाद में आने वाले बल्लेबाज बड़ा स्कोर खड़ा करते हैं. रोहित (Rohit) ने वनडे क्रिकेट (ODI Cricket) में सबसे ज्यादा तीन दोहरे शतक लगाए हैं. वहीं, टेस्ट क्रिकेट में उनके नाम 7 आतिशी शतक शामिल हैं. 

बुरी तरह से फ्लॉप रहे मयंक अग्रवाल 

साउथ अफ्रीका टूर पर रोहित शर्मा (Rohit Sharma) की कमी टीम इंडिया (Team India) को खलती रही. जबकि मयंक अग्रवाल (Mayank Agarwal) इस मौके का फायदा नहीं उठा पाए. मयंक अग्रवाल (Mayank Agarwal) साउथ अफ्रीकी दौरे की 6 पारियों में केवल एक हॉफ सेंचुरी (Half Century) लगा पाए हैं. तीसरे टेस्ट मैच में भारतीय फैंस को उनसे धमाकेदार पारी की उम्मीद थी, लेकिन वो पहली पारी में 15 रन और दूसरी पारी में 7 रन ही बना सके. उनके बल्ले से रन निकलना ऐसा हो गया है, जैसे लोहे के चने चबाना. ऐसे में आने वाली श्रीलंका सीरीज में उनका टीम से पत्ता कट सकता है. 

ऐसा रहा है मयंक अग्रवाल का करियर 

मयंक अग्रवाल (Mayank Agarwal) ने भारत टीम के लिए अपना टेस्ट डेब्यू 2018 में ऑस्ट्रेलिया (Australia) के खिलाफ किया था. उन्होंने भारत (India) के लिए  17 टेस्ट मैचों में 1300 से ज्यादा रन बनाए, जिसमें चार शतक शामिल हैं. वहीं, 5 वनडे मैचों में 86 रन बनाए हैं. आईपीएल (IPL) में वह पंजाब किंग्स (Punjab Kings) की तरफ से खेलते हैं. इस बार पंजाब (Punjab ) की टीम ने उन्हें मोटी रकम देकर रिटेन किया है और वह पंजाब के कप्तान बनने के सबसे बड़े दावेदार हैं. 

भारत ने गंवाई सीरीज 

साउथ अफ्रीका ने भारत के खिलाफ 212 रन का पीछा करते हुए अपनी दूसरी पारी में 3 विकेट खोकर टारगेट को हासिल कर लिया. कीगन पीटरसन (Keegan Petersen) ने शानदार 81 रन की पारी खेली, वहीं रासी वान डार डुसेन ने 41 और टेम्बा बवूमा ने 32 रन का योगदान देकर अपनी टीम को 7 विकेट से यादगार जीत दिला दी. टीम इंडिया ने सेंचुरियन में पहला टेस्ट मैच 113 रन से जीतकर कमाल कर दिया था, लेकिन जोहानिसबर्ग और केपटाउन में दोनों टेस्ट गंवाकर सीरीज में 1-2 से शिकस्त पाई. भारत आज तक साउथ अफ्रीका सरजमीं पर एक भी टेस्ट सीरीज नहीं जीत पाई है.

U19 WC: ये 5 खिलाड़ी भारत को बनाएंगे वर्ल्ड चैंपियन, दिखता है रोहित-कोहली जैसा दम

भारतीय अंडर 19 टीम वेस्टइंडीज पहुंच चुकी है. वेस्टइंडीज की मेजबानी में अंडर 19 वर्ल्डकप खेला जाएगा. टीम इंडिया की कमान यश धुल को सौंपी गई है.

नई दिल्ली: भारतीय अंडर 19 टीम वेस्टइंडीज पहुंच चुकी है. वेस्टइंडीज की मेजबानी में अंडर 19 वर्ल्डकप खेला जाएगा. टीम इंडिया की कमान यश धुल को सौंपी गई है. भारत इससे पहले 2018 में पृथ्वी शॉ की कप्तानी में Under 19 वर्ल्डकप जीता था. पिछली बार भारत 2022 में बांग्लादेश के हाथों फाइनल में खिताब से चूक गया था.

इन 5 खिलाड़ियों से भारत को सबसे ज्यादा उम्मीद

भारत को यदि Under 19 वर्ल्ड कप अपने नाम करना है तो उसे इस खिलाड़ियों के अच्छे प्रदर्शन की कामना करनी होगी. यश धुल, शेख राशिद, राज बावा, राज्यवर्धन हंगरेगर, हरनूर सिंह. ये सभी खिलाड़ी भविष्य के सितारे माने जा रहे हैं. ओपनर बल्लेबाज हरनूर सिंह ने भारत की एशिया कप की जीत में यादगार प्रदर्शन किया था. ओपनर हरनूर सिंह 4 मैचों में 131 रन ठोके और वो टूर्नामेंट में दूसरे सबसे ज्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ी रहे. हरनूर का औसत तो 32.75 रहा और उन्होंने टीम इंडिया को अच्छी शुरुआत दी.

यश धुल और शेख राशिद से सबसे ज्यादा उम्मीद

भारत की अंडर 19 टीम के कप्तान यश धुल और उपकप्तान शेख राशिद को बनाया गया है. 17 साल के शेख राशिद ने हाल ही में बीते U19 एशिया कप में सबसे ज्यादा 133 रन बनाए. राशिद का औसत 66.50 रहा और वो चार में से दो पारियों में नाबाद रहे. शेख राशिद ने इस टूर्नामेंट में महज 6 चौके और एक छक्का लगाया लेकिन मुश्किल विकेट पर उन्होंने बल्ले से सबसे ज्यादा योगदान दिया.

राज बावा की बुमराह से तुलना

जसप्रीत बुमराह मौजूदा टीम के सबसे अहम गेंदबाज हैं. राज अंगद बावा की तुलना बुमराह से की जा रही है. एशिया कप में दाएं हाथ के तेज गेंदबाज राज अंगद बावा ने भारत के लिए 4 मैचों में सबसे ज्यादा 8 विकेट चटकाए. बावा ने एक मैच में चार विकेट लेने का कारनामा भी किया. इनके अलावा अंगकृष रघुवंशी और राज्यवर्धन हंगरगेकर ने हाल ही में हुए एशिया कप में शानदार प्रदर्शन किया था. अंगकृष की तुलना बल्लेबाज रोहित शर्मा से की जाती है. उन्होंने फाइनल मैच में नाबाद हॉफ सेंचुरी ठोककर टीम इंडिया को जीत दिलाने में अहम भूमिका निभाई थी.

इस इंटरनेशनल क्रिकेटर का यू-टर्न, संन्यास के 10 दिन बाद ही बदला मन, उठाया ऐसा कदम

श्रीलंका (Sri Lanka) के बल्लेबाज भानुका राजपक्षे (Bhanuka Rajapaksa) ने नए साल की शुरुआत में इंटरनेशल क्रिकेट को अलविदा कह दिया था, लेकिन अब उनका मन बदल गया है.

कोलंबो: श्रीलंका (Sri Lanka) के बल्लेबाज भानुका राजपक्षे (Bhanuka Rajapaksa) ने रिटारमेंट के ऐलान के 10 दिन बाद ही 13 जनवरी को अपना फैसला वापस लेते हुए कहा कि वो देश के लिए फिर से खेलना चाहते हैं.

श्रीलंका क्रिकेट ने खबर कंफर्म किया

बोर्ड ने एक ऑफिशियल बयान में कहा, ‘श्रीलंका क्रिकेट (Sri Lanka Cricket) ने पुष्टि की है कि बाएं हाथ के बल्लेबाज भानुका राजपक्षे (Bhanuka Rajapaksa) ने संन्यास वापस ले लिया है. 

खेल मंत्री से मुलाकात के बाद बदला मन

युवा और खेल मंत्री (Minister of Youth & Sports) नमल राजपक्षे (Namal Rajapaksa) के साथ एक मुलाकात के बाद और नेशनल सेलेक्टर्स के साथ सलाह मशविरा के बाद भानुका राजपक्षे (Bhanuka Rajapaksa) ने एसएलसी (SLC) को बताया कि वो अपना इस्तीफा वापस लेना चाहते हैं जो उन्होंने 3 जनवरी 2022 को बोर्ड को तत्काल प्रभाव से दिया था.’

देश के लिए खेलना चाहते हैं भानुका

बोर्ड के बयान में कहा गया है, ‘श्रीलंका क्रिकेट (Sri Lanka Cricket) को अपना इस्तीफा वापस लेने वाले लेटर में उन्होंने आगे कहा कि वह अपने देश को रिप्रजेंट करना चाहते हैं, जिससे वो प्यार करते हैं.’

लसिथ मलिंगा ने की थी गुजारिश

इतिहास के महान गेंदबाज लसिथ मलिंगा (Lasith Malinga) सहित श्रीलंका (Sri Lanka) के कई खिलाड़ियों ने भानुका राजपक्षे (Bhanuka Rajapaksa से रिटायरमेंट के फैसले पर पुनर्विचार करने की गुजारिश की थी.

2019 में किया था डेब्यू

भानुका राजपक्षे (Bhanuka Rajapaksa) ने 5 अक्टूबर, 2019 को पाकिस्तान के दौरे (Pakistan Tour) पर टी20 में अपना डेब्यू किया. उनका वनडे करियर 6 महीने से भी कम वक्त तक का है, क्योंकि उन्होंने जुलाई 2021 में डेब्यू किया था.

भानुका ने खेले महज 5 वनडे

बाएं हाथ के बल्लेबाज भानुका राजपक्षे (Bhanuka Rajapaksa) ने श्रीलंका (Sri Lanka) के लिए 5 वनडे और 18 टी20 इंटरनेशनल मैच खेले हैं. उन्होंने क्रमश: 17.80 और 26.66 की औसत से 89 और 320 रन बनाए हैं.

क्यों लिया था रिटायरमेंट?

भानुका राजपक्षे (Bhanuka Rajapaksa) ने अपने इस्तीफे में लिखा था, ‘मैंने एक खिलाड़ी, पति के रूप में अपनी स्थिति पर बहुत सावधानी से विचार किया है और पारिवारिक जिम्मेदारियों को देखते हुए ये फैसला ले रहा हूं.’

 

क्रिकेट इतिहास के 5 सफल कप्तान, पहले-दूसरे नहीं, तीसरे नंबर पर है धाकड़ धोनी का नाम

कप्तान ही जीत की नींव तैयार करता है, जिस बाकी 10 खिलाड़ी इमारत खड़ी करते हैं. कप्तान मैदान के अंदर और बाहर खिलाड़ियों (players) में खेल के प्रति जोश और उत्साह भी भरते दिखाई देते हैं. जब भी कोई टीम खिताब जीतती है, तो सारा क्रेडिड कप्तान को ही दिया जाता है, लेकिन जब टीम हारती है तब कैप्टन को ही दोषी साबित किया जाता है. 

नई दिल्ली: किसी भी क्रिकेट टीम में कप्तान (Captain) की भूमिका बहुत ही अहम होती है. वह उस सेनापति की तरह होता है, जो हमेशा ही टीम को आगे बढ़ने की प्ररेणा देता है. कप्तान ही जीत की नींव तैयार करता है, जिस बाकी 10 खिलाड़ी इमारत खड़ी करते हैं. कप्तान मैदान के अंदर और बाहर खिलाड़ियों (players) में खेल के प्रति जोश और उत्साह भी भरते दिखाई देते हैं. जब भी कोई टीम खिताब जीतती है, तो सारा क्रेडिड कप्तान को ही दिया जाता है, लेकिन जब टीम हारती है तब कैप्टन को ही दोषी साबित किया जाता है. आज हम बात क्रिकेट इतिहास के उन पांच सफलतम कप्तानों के बारे में, जिन्होंने अपनी टीम के वर्ल्ड विजेता बनाया. खास बात ये है इसमें पहले और दूसरे सर्वकालिक महान कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) का नाम नहीं है.  

1. रिकी पोंटिंग 

ऑस्ट्रेलिया (Australia) की तरफ से खेलने वाले रिकी पोंटिंग (Ricky Ponting) बहुत ही शानदार कप्तान थे. उनकी कप्तानी में ऑस्ट्रेलिया की टीम ने दो बार वनडे वर्ल्ड कप (world cup) पर कब्जा जमाया था. टीम ने 2003 और 2007 में ट्रॉफी अपने नाम की थी. कहा जाता था कि पोंटिंग जिस ऑस्ट्रेलियाई टीम के कप्तान थे, उसे हराना बहुत ही मुश्किल माना जाता था. रिकी पोंटिंग (Ricky Ponting) ने 2002 से 2012 के बीच 230 वनडे मैच में ऑस्ट्रेलिया टीम की कप्तानी की थी, जिसमें 165 में कंगारू टीम को जीत मिली और सिर्फ 51 में हार का सामना करना पड़ा.  पोंटिंग ने 77 टेस्ट मैच कप्तान के तौर पर खेले, जिसमें ऑस्ट्रेलिया (australia) की टीम को 48 में जीत मिली. रिकी पोंटिंग सबसे ज्यादा वनडे मैच जीतने वाले कप्तान हैं. 

2. स्टीफन फ्लेमिंग 

न्यूजीलैंड के पूर्व कप्तान स्टीफन फ्लेमिंग (Stephen Fleming) सबसे ज्यादा वनडे मैच में कप्तानी करने के मामले में दूसरे नंबर पर हैं. स्टीफन फ्लेमिंग  (Stephen Fleming)  ने अपने दम पर न्यूजीलैंड (New Zealand) को कई मैच जिताए थे. स्टीफन फ्लेमिंग (Stephen Fleming) ने 1997 से लेकर 2007 तक न्यूजीलैंड (New Zealand) टीम की कप्तानी की और इस दौरान उन्होंने 218 मैच कप्तान (captain) के तौर पर खेले, इनमें से 98 मैचों में कीवी टीम को जीत मिली और 106 में हार का सामना करना पड़ा. वहीं, टेस्ट मैचों की बात करें तो स्टीफन फ्लेमिंग (Stephen Fleming) ने 80 टेस्ट मैचों में कप्तानी की, जिसमें टीम ने 28 में जीत हासिल की और 27 में हार का सामना करना पड़ा. 

3. महेंद्र सिंह धोनी 

महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) अपनी करिश्माई कप्तानी के लिए जाने जाते हैं. धोनी (dhoni) ने अपने शांत और शातिर दिमाग से भारतीय टीम को कई मैच जिताए हैं. धोनी आईसीसी (ICC) द्वारा आयोजित तीनों ही ट्रॉफी जीतने वाले इकलौते कप्तान हैं. उन्होंने अपनी कप्तानी में भारत को 2007 टी20 वर्ल्ड कप, 2011 वनडे वर्ल्ड कप और 2013 चैंपियंस ट्रॉफी जिताई. उन्होंने भारत (India) के लिए 200 मैचों में वनडे कप्तानी की, जिसमें 110 में टीम को जीत हासिल हुई. टेस्ट मैचों में वह खास सफल नहीं हो पाए. उनकी कप्तानी में ही टीम को इंग्लैंड (England) और ऑस्ट्रेलिया (Australia) में 4-0 से हार का सामना करना पड़ा. उन्होंने 60 टेस्ट मैचों में कप्तानी की, जिसमें भारतीय टीम सिर्फ 27 ही जीत सकी. 

4. स्टीव वॉ 

ऑस्ट्रेलिया के स्टीव वॉ (Steve Waugh) दुनिया के सबसे सफलतम टेस्ट कप्तान (test captian) हैं. उन्होंने 57 टेस्ट मैचों में ऑस्ट्रेलिया टीम की कप्तानी की, जिसमें से टीम ने 41 में धमाकेदार जीत दर्ज की. उनके समय की ऑस्ट्रेलिया टीम को बहुत ही खतरनाक माना जाता था. स्टीव वॉ (Steve Waugh) की कप्तानी में ही ऑस्ट्रेलिया की टीम ने 1999 वनडे वर्ल्ड कप पाकिस्तान (pakistan) की टीम को हारकर जीता था. उन्होंने 106 मैचों में वनडे टीम की कमान संभाली थी, जिसमें टीम ने 67 में जीत दर्ज की. 

5. ग्रीम स्मिथ 

ग्रीम स्मिथ (Graeme Smith) की गिनती दुनिया के महान कप्तानों में होती है. उन्होंने कप्तान के तौर पर सबसे ज्यादा टेस्ट मैच खेले हैं. साउथ अफ्रीका (south africa) के लिए ग्रीम स्मिथ (Graeme Smith) ने 109 टेस्ट मैचों में कप्तानी की, जिसमें से उन्होंने 53 में जीत हासिल की. वहीं, 150 वनडे मैचों में 92 में जीत हासिल की, लेकिन ग्रीम स्मिथ (Graeme Smith) अपनी कप्तानी में साउथ अफ्रीकी (south africa) टीम को एक भी वर्ल्ड कप नहीं दिला पाए. 

भारत-अफ्रीका का निर्णायक टेस्ट आज, Playing 11 से इन खिलाड़ियों को OUT करेंगे कोहली

तीसरे टेस्ट मैच में भारत (India) को जीत से कम कुछ भी मंजूर नहीं, ऐसे में वह अपनी बेस्ट Playing 11 उतारेगा. आइए एक नजर डालते हैं कि साउथ अफ्रीका (South Africa) के खिलाफ तीसरे टेस्ट में भारत (India) किस प्लेइंग इलेवन (Playing 11) के साथ उतरेगा. 

केपटाउन: भारत (India) और साउथ अफ्रीका (South Africa) के बीच 3 मैचों की टेस्ट सीरीज (Test Series) का तीसरा और निर्णायक मुकाबला आज दोपहर 2 बजे से केपटाउन के न्यूलैंड्स मैदान पर खेला जाएगा. भारत (India) अगर तीसरा और निर्णायक टेस्ट मैच जीत लेता है, तो वह साउथ अफ्रीका (South Africa) में पहली बार टेस्ट सीरीज जीतकर इतिहास रच देगा. 

अफ्रीका में इतिहास रचने के करीब भारत

बता दें कि 29 साल के इतिहास में भारत (India) कभी भी साउथ अफ्रीका (South Africa) में साउथ अफ्रीका (South Africa) के खिलाफ टेस्ट सीरीज नहीं जीत पाया है. तीसरे टेस्ट मैच में भारत (India) को जीत से कम कुछ भी मंजूर नहीं, ऐसे में वह अपनी बेस्ट Playing 11 उतारेगा. आइए एक नजर डालते हैं कि साउथ अफ्रीका (South Africa) के खिलाफ तीसरे टेस्ट में भारत (India) किस प्लेइंग इलेवन (Playing 11) के साथ उतरेगा. 

ये होगी ओपनिंग जोड़ी

साउथ अफ्रीका (South Africa) के खिलाफ ओपनिंग के लिए केएल राहुल (KL Rahul) और मयंक अग्रवाल (Mayank Agarwal) का मैदान पर उतरना तय है. ये दोनों बल्लेबाज भारत (India) के लिए तीसरे टेस्ट मैच में साउथ अफ्रीका (South Africa) के खिलाफ ओपनिंग करेंगे.

ऐसा होगा मिडिल ऑर्डर 

वहीं नंबर 3 के लिए चेतेश्वर पुजारा (Cheteshwar Pujara) फिट हैं. जबकि चौथे नंबर पर कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) बल्लेबाजी के लिए उतरेंगे. नंबर 5 पर अजिंक्य रहाणे (Ajinkya Rahane) बल्लेबाजी करने उतरेंगे. अजिंक्य रहाणे (Ajinkya Rahane) और चेतेश्वर पुजारा (Cheteshwar Pujara) पर अच्छे प्रदर्शन का दबाव होगा.

ऋषभ पंत (Rishabh Pant) होंगे विकेटकीपर 

नंबर 6 के लिए विकेटकीपर बल्लेबाज ऋषभ पंत (Rishabh Pant) का चयन होना तय है. पिछले कुछ मैचों में ऋषभ पंत (Rishabh Pant) का भी प्रदर्शन खराब रहा है. ऋषभ पंत (Rishabh Pant) पर भी अच्छे प्रदर्शन का दबाव होगा. 

ऑलराउंडर्स

वहीं, 7 नंबर पर बतौर ऑलराउंडर रविचंद्रन अश्विन (R Ashwin) को मौका मिलना तय है. रविचंद्रन अश्विन (R Ashwin) स्पिन गेंदबाजी के साथ-साथ अच्छी बैटिंग भी करते हैं. 8 नंबर पर शार्दुल ठाकुर खेलेंगे, जो तेज गेंदबाजी के साथ-साथ विस्फोटक बल्लेबाजी में भी माहिर हैं. 

ये होंगे तेज गेंदबाज 

तेज गेंदबाजों के लिए इस प्लेइंग इलेवन में जसप्रीत बुमराह (Jasprit Bumrah), मोहम्मद शमी (Mohammed Shami) और उमेश यादव (Umesh Yadav) को जगह दी जा सकती है.  

साउथ अफ्रीका के खिलाफ ये हो सकती है भारत की प्लेइंग इलेवन:
 
केएल राहुल (KL Rahul) 
मयंक अग्रवाल (Mayank Agarwal)
चेतेश्वर पुजारा (Cheteshwar Pujara)
विराट कोहली (Virat Kohli) (कप्तान)
अजिंक्य रहाणे (Ajinkya Rahane)
ऋषभ पंत (Rishabh Pant) (विकेटकीपर) 
रविचंद्रन अश्विन (R Ashwin)
शार्दुल ठाकुर (Shardul Thakur)
उमेश यादव (Umesh Yadav)
मोहम्मद शमी (Mohammed Shami)
जसप्रीत बुमराह (Jasprit Bumrah)

भारत बनाम साउथ अफ्रीका टेस्ट सीरीज (India vs South Africa Test Series) 

तीसरा टेस्ट मैच –  11 से 15 जनवरी 2022 – केपटाउन (Capetown) – दोपहर 2:00 बजे

इन भारतीय प्लेयर्स ने जड़े एक ओवर में सबसे ज्यादा रन, तीसरे नंबर पर एक घातक गेंदबाज

भारत ने देश और दुनिया को बहुत ही महान बल्लेबाज दिए हैं. चार भारतीय खिलाड़ियों ने वनडे क्रिकेट के एक ओवर में सबसे ज्यादा रन बनाए हैं. इस लिस्ट में एक दिग्गज गेंदबाज शामिल है. 

नई दिल्ली: भारतीय बल्लेबाज (Indian batsman) पूरी दुनिया में अपनी धाकड़ बल्लेबाजी के लिए जाने जाते हैं. वनडे क्रिकेट में भारतीय टीम का प्रदर्शन बहुत ही लाजबाव रहा है. भारत ने दो बार वनडे वर्ल्ड कप अपने नाम किया है. वीरेंद्र सहवाग, युवराज सिंह, रोहित शर्मा (rohit sharma) और महेंद्र सिंह धोनी (ms dhoni) जैसे कई धाकड़ बल्लेबाज भारत ने पूरी दुनिया को दिए. आज हम बात करेंगे. उन भारतीय खिलाड़ियों के बारे में, जिन्होंने वनडे क्रिकेट के एक ओवर में सबसे ज्यादा रन बनाए हैं. इस लिस्ट में तीसरे नंबर पर एक गेंदबाज शामिल है. 

1. श्रेयस अय्यर

श्रेयस अय्यर (shreyas Iyer) ने पिछले कुछ सालों में टीम इंडिया में अपना एक अलग ही मुकाम बना लिया है. वह बहुत ही क्लासिक बल्लेबाज है. उनकी बल्लेबाजी देखकर बड़े से बड़े गेंदबाज खौफ खाते हैं. अय्यर (shreyas Iyer) भारत  की तरफ से वनडे के एक ओवर में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज हैं. ये करिश्मा उन्होंने वेस्टइंडीज (West Indies) के खिलाफ 2019 में विशाखापट्टनम (Visakhapatnam) में किया था. अय्यर ने रोस्टन चेस के एक ओवर में 31 रन बनाए थे, जिसमें उन्होंने 4 छक्के और एक चौका लगाया था. श्रेयस अय्यर ने इस मुकाबले में 32 गेंद पर 53 रन बनाए थे. 

2. सचिन तेंदुलकर 

सचिन तेंदुलकर (sachin tendulkar) ने दुनिया का हर बड़ा रिकॉर्ड अपने नाम किया है. उन्होंने वनडे क्रिकेट में सबसे ज्यादा 49 रन बनाए हैं. उनके फैंस उन्हें प्यार से मास्टर बलास्टर बुलाते हैं. एक ओवर में सबसे ज्यादा रन बनाने के मामले में वह दूसरे नंबर पर हैं. सचिन तेंदुलकर ने 1999 में न्यूजीलैंड (New Zealand) के खिलाफ हैदराबाद (hyderabad) में क्रिस ड्रम के एक ही ओवर में ताबड़तोड़ चौके-छक्के लगाकर 28 रन कूटे थे. इस मैच में सचिन ने 150 गेंदों पर 186 रनों की पारी खेली थी. सचिन (sachin) हमेशा से ही बड़ी पारी खेलने के लिए जाने जाते हैं. 

3. जहीर खान 

इस लिस्ट में आप जहीर खान (Zaheer Khan) इकलौत गेंदबाज हैं. वनडे क्रिकेट में एक ओवर में सबसे ज्यादा रन बनाने के मामले में वो तीसरे नंबर पर हैं. उन्होंने जोधपुर में जिम्बाब्वे (Zimbabwe ) के खिलाफ ये कारनामा किया था. जहीर खान (Zaheer Khan) ने हेनरी ओलांगा (HK Olonga) के एक ओवर में 4 छक्के लगाते हुए कुल रन 27 बटोरे थे. जहीर खान दुनिया के महानतम गेंदबाजों में शुमार हैं, उनकी गेंदों को खेलना किसी भी बल्लेबाज के लिए आसान नहीं था. 

4. वीरेंद्र सहवाग 

वीरेंद्र सहवाग (Virender Sehwag) ने दुनिया के महानतम बल्लेबाजों में शुमार हैं. उन्होंने दुनिया के हर मैदान पर  रन बनाए हैं. वह बहुत ही आक्रामक बल्लेबाजी करने के लिए जाने जाते हैं. वीरेंद्र सहवाग (Virender Sehwag) एक ओवर में सबसे ज्यादा रन बनाने के मामले में चौथे नंबर पर हैं. उन्होंने श्रीलंका के खिलाफ एक ओवर में 26 रन कूटे थे, जिसमें 5 चौके और 1 छक्का शामिल था. ये करिश्मा उन्होंने 2005 में कोलंबो के मैदान पर किया था. 

महिला वर्ल्ड कप के लिए टीम इंडिया का ऐलान, इस स्टार खिलाड़ी को मिली कमान

बीसीसीआई ने साल 2022 में न्यूजीलैंड में होने वाले महिला विश्व कप को लेकर भारतीय टीम की घोषणा कर दी है. इस टीम के लिए मिताली राज को कप्तान बनाया गया है. वहीं कई दिग्गज खिलाड़ियों को बाहर का रास्ता दिखा दिया गया है. 

नई दिल्ली: महिला वर्ल्ड कप के लिए टीम इंडिया का ऐलान कर दिया गया है. कई दिग्गज खिलाड़ियों को टीम से बाहर का रास्ता दिखाया गया है. वहीं, एक सुपरस्टार खिलाड़ी को टीम की कमान सौंपी गई है. भारत का पहला मुकाबला 3 मार्च को पाकिस्तान से होगा. 

इस खिलाड़ी को बनाया गया कप्तान 

महिला वर्ल्ड कप के लिए भारतीय टीम की कप्तान मिताली राज होंगी, जबकि हरमनप्रीत कौर उपकप्तान होंगी. 39 वर्ष की मिताली कह चुकी हैं कि वह विश्व कप के बाद संन्यास के बारे में सोचेंगी. चयनकर्ताओं ने इस साल के शुरू में आस्ट्रेलियाई दौरे पर शानदार प्रदर्शन करने वाली खिलाड़ियों को टीम में जगह दी है जिसमें बायें हाथ की बल्लेबाज यास्तिका भाटिया के साथ मेघना सिंह और रेणुका सिंह की तेज गेंदबाजी जोड़ी भी शामिल है.

इन प्लेयर्स को नहीं मिली जगह 

टॉप ऑर्डर की स्टार बल्लेबाज जेमिमा रौड्रिगेज और अनुभवी तेज गेंदबाज शिखा पांडे को चार मार्च से तीन अप्रैल तक न्यूजीलैंड में होने वाले आईसीसी वनडे वर्ल्ड कप के लिए भारत की 15 सदस्यीय महिला क्रिकेट टीम में जगह नहीं मिली है. एक अन्य टॉप ऑर्डर बल्लेबाज पूनम राउत को भी टीम में जगह नहीं मिली है, क्योंकि चयनकर्ताओं ने तेजी से रन बटोरने वाली खिलाड़ियों को टीम में शामिल किया है, पूनम राउत इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया में टीम का हिस्सा रही थीं. टीम में स्मृति मंधाना, झूलन गोस्वामी और युवा शेफाली वर्मा को भी शामिल किया गया है. 

विकेटकीपर के तौर पर इन खिलाड़ियों किया शामिल

जेमिमा और हरफनमौला शिखा को खराब फॉर्म की वजह से टीम में जगह नहीं मिली है. जेमिमा पिछले साल एक भी इंटरनेशनल मैच में दोहरे अंक तक नहीं पहुंच सकी. उन्होंने हालांकि इंग्लैंड में ‘द हंड्रेड’ टूर्नामेंट और ऑस्ट्रेलिया में बिग बैश लीग में अच्छा प्रदर्शन किया. वहीं शिखा ने इंटरनेशनल मैचों में अच्छा प्रदर्शन नहीं किया है. रिचा घोष और तानिया भाटिया के रूप में भारत ने दो विकेटकीपरों को मौका दिया गया है. यही भारतीय टीम न्यूजीलैंड के खिलाफ नौ से 24 फरवरी तक सीमित ओवरों की सीरीज खेलेगी, जिसमें पांच वनडे मैच खेले जाएंगे.  

पूर्व कप्तान ने दिया बड़ा बयान 

भारतीय महिला टीम की पूर्व कप्तान डायना एडुल्जी ने पीटीआई से कहा कि संतुलित टीम का चयन किया गया है, लेकिन उन्होंने शिखा पांडे को बाहर किये जाने पर हैरानी जताई हैं. उन्होंने कहा, ‘जेमिमा को अब मजबूत वापसी करनी चाहिए. हालांक शिखा को नहीं चुना जाना थोड़ा हैरानी भरा है, क्योंकि वह झूलन के साथ एक अनुभवी तेज गेंदबाज हो सकती थीं.’ इडुल्जी ने कहा, ‘मुझे लगता है कि जब झूलन संन्यास ले लेगी तो वह वापसी करेगी. सीनियर खिलाड़ियों ने युवाओं के लिये जगह बनाई है. यह दिखाता है कि आप अपने स्थान को हल्के में नहीं ले सकते.’ वह उम्मीद कर रही हैं कि युवा शेफाली और अधिक निरंतर होंगी, जिनकी शार्ट पिच गेंद के खिलाफ कमजोरी आस्ट्रेलिया में उजागर हुई थीं.

पाकिस्तान के खिलाफ है पहला मैच 

भारत को विश्व कप में छह मार्च को तौरंगा में पाकिस्तान से पहला मैच खेलना है.  इसके बाद 10 मार्च को हैमिल्टन में न्यूजीलैंड से, फिर वेस्टइंडीज (12 मार्च, हैमिल्टन), गत चैम्पियन इंग्लैंड (16 मार्च, तौरंगा), ऑस्ट्रेलिया (19 मार्च, आकलैंड), बांग्लादेश (22 मार्च, हैमिल्टन) और दक्षिण अफ्रीका (27 मार्च, क्राइस्चर्च) से खेलना है. 

बुधवार को हुई बैठक में अखिल भारतीय महिला चयन समिति ने न्यूजीलैंड के खिलाफ वनडे से पहले नौ फरवरी को खेले जाने वाले एकमात्र टी20 अंतरराष्ट्रीय मैच के लिए 16 सदस्यीय टीम का भी चयन किया, जिसकी अगुआई हरमनप्रीत कौर करेंगी. एकमात्र टी20 और पहला वनडे नेपियर में खेला जाएगा, जबकि इसके बाद बचे हुए 50 ओवर के सभी मैच नेल्सन (14 और 16 फरवरी) और क्वींसटाउन (22 और 24 फरवरी) में खेले जाएंगे. पिछली बार 2017 में भारतीय टीम फाइनल में इंग्लैंड से नौ रन से हारकर इतिहास रचने से चूक गई थी. 

आईसीसी महिला वर्ल्ड कप 2022 और न्यूजीलैंड के खिलाफ वनडे के लिए टीम: 

मिताली राज (कप्तान), हरमनप्रीत कौर, स्मृति मंधाना, शेफाली वर्मा, यस्तिका भाटिया, दीप्ति शर्मा, रिचा घोष , स्नेह राणा, झूलन गोस्वामी, पूजा वस्त्राकर, मेघना सिंह, रेणुका सिंहइा कुर, तानिया भाटिया, राजेश्वरी गायकवाड़, पूनम यादव. 

स्टैंडबाय : एस मेघना, एकता बिष्ट, सिमरन दिल बहादुर. 

न्यूजीलैंड के खिलाफ एकमात्र टी20 इंटरनेशनल के लिए टीम 

हरमनप्रीत कौर (कप्तान), स्मृति मंधाना,शेफाली वर्मा, यस्तिका भाटिया, दीप्ति शर्मा, रिचाा घोष, स्नेह राणा, पूजा वस्त्राकर, मेधना सिंह, रेणुका सिंह ठाकुर, तानिया भाटिया, राजेश्वरी गायकवाड़, पूनम यादव, एस मेघना, एकता बिष्ट, सिमरन दिल बहादुर. 

'अपना मुंह बंद रखो', अफ्रीकी खिलाड़ी से सरेआम भिड़े ऋषभ पंत; जानें पूरा मामला

IND vs SA: टीम इंडिया इस वक्त साउथ अफ्रीका के खिलाफ तीन मैचों की टेस्ट सीरीज के दूसरे मुकाबले में भिड़ रही है. इस मैच में ऋषभ पंत से एक अच्छी पारी की उम्मीद थी, लेकिन वो एक बार फिर से फ्लॉप रहे. पंत ने अपनी बल्लेबाजी से ज्यादा साउथ अफ्रीका के खिलाड़ी से बहस करना ठीक समझा.

नई दिल्ली: टीम इंडिया इस वक्त साउथ अफ्रीका के खिलाफ तीन मैचों की टेस्ट सीरीज के दूसरे मुकाबले में भिड़ रही है. इस सीरीज के दूसरे मुकाबले में टीम इंडिया ने दूसरी पारी में साउथ
अफ्रीका के ऊपर 200 से ज्यादा रनों की लीड ले ली है. इस मैच में टीम की डुबती हुई नैया को अजिंक्य रहाणे और चेतेश्वर पुजारा ने सहारा दिया. वहीं टीम को ऋषभ पंत से एक अच्छी पारी की उम्मीद थी, लेकिन वो एक बार फिर से फ्लॉप रहे. पंत ने अपनी बल्लेबाजी से ज्यादा साउथ अफ्रीका के खिलाड़ी से बहस करना ठीक समझा.

पंत हुए लापरवाही के शिकार

दरअसल जिस वक्त ऋषभ पंत बल्लेबाजी करने उतरे तो शॉर्ट लेग पर खड़े रैसी वैन डेर डुसेन ने स्लेज करने की कोशिश की. पंत भी पीछे नहीं रहे और उन्होंने तुरंत डुसेन को अपना मुंह बंद रखने को कहा. लेकिन इस बहस का फायदा डुसेन को मिला और पंत अपनी पारी की तीसरी ही गेंद पर आउट हो गए. पंत खाता खोले बिना कागिसो रबाडा का शिकार हो गए. डुसेन से बहस करने में पंत का ध्यान भंग हो गया और वो आउट होकर पवेलियन लौट गए. 

वीडियो हो रहा वायरल 

डुसेन और पंत की बहस का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. इस वीडियो में पंत डुसेन को मुंह बंद करने के लिए कह रहे हैं. पंत को अपनी लापरवाही के लिए कई दिग्गजों से बुरा भला सुनना पड़ा है. वहीं फैंस को पंत ने जमकर ट्रोल किया है. सुनील गावस्कर ने कहा कि पंत का विकेट गंवाना मूर्खता था. हैरानी की बात ये थी कि जिस वक्त पंत से टीम को एक अच्छी पारी की उम्मीद थी उसी वक्त वो लौट गए. 

अगले मैच में बाहर होना तय? 

ऋषभ पंत पिछले 13 टेस्ट पारियों में बुरी तरह से फ्लॉप रहे हैं. उन्होंने  4, 41, 25, 37, 22, 2, 1, 9, 50, 8, 34, 17, 0 बनाए हैं. पंत ने पिछले 13 पारियों में 250 रन ही बनाए हैं.  ऐसे में विराट कोहली उन्हें तीसरे टेस्ट मैच में मौका नहीं देना चाहेंगे. सेलेक्टर्स पंत को बहुत ही ज्यादा मौके दे चुके हैं, लेकिन ये खतरनाक बल्लेबाज अपनी काबिलियत साबित नहीं कर पाया है. साउथ अफ्रीका दौरे पर दोनों ही टेस्ट मैचों में वह कोई कमाल नहीं दिखा पाए. घरेलू क्रिकेट और आईपीएल में धमाकेदार प्रदर्शन करने वाले कई खिलाड़ी उनकी जगह लेने के लिए तैयार बैठे हैं.

ये खिलाड़ी छीन लेगा जगह?

टीम इंडिया में कई मैच विनर खिलाड़ी मौजूद हैं. बेंच स्ट्रेंथ पर अनुभवी विकेटकीपर बल्लेबाज ऋद्धिमान साहा टीम में आने के लिए तैयार हैं. साहा की विकेटकीपिंग स्किल पंत से कहीं बेहतर है. साहा ने न्यूजीलैंड के खिलाफ आतिशी हॉफ सेंचुरी लगाई थी. वह शानदार फॉर्म में चल रहे हैं. तीसरे टेस्ट मैच में उन्हें मौका दिया जा सकता है.  

टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में 4 ही बल्लेबाज कर पाए ये कारनामा, लिस्ट में भारतीय शामिल

टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में चार ही बल्लेबाज दो तिहरे शतक लगा पाए हैं. इन चार धाकड़ प्लेयर्स में एक भारतीय शामिल हैं. ये खतरनाक ओपनर अपनी तूफानी बल्लेबाजी के कारण पूरी दुनिया में जाना जाता है. 

नई दिल्ली: टेस्ट क्रिकेट को हमेशा ही धैर्यपूर्ण तरीके से खेला जाता है. यहां क्लासिक बल्लेबाजी की जरूरत होती है. टेस्ट क्रिकेट में जो भी बल्लेबाज संयम दिखाएगा. वहीं पांच दिन के क्रिकेट में टिक पाता है. टेस्ट क्रिकेट का जनक इंग्लैंड को माना जाता है. टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में चार ही बल्लेबाज दो तिहरे शतक लगा पाए हैं, इस लिस्ट में एक धाकड़ भारतीय शामिल है. इस इंडियन बल्लेबाज के नाम से सभी गेंदबाज खौफ खाते हैं. 

1. ब्रायन लारा 

ब्रायन लारा (Brian Lara) दुनिया के महानतम बल्लेबाजों में गिने जाते हैं. सारा के नाम ही टेस्ट क्रिकेट का सर्वोच्चय स्कोर बनाने का रिकॉर्ड हैं. उन्होंने 2004 में इंग्लैंड के खिलाफ 400 रनों की पारी खेली थी. 1994 में भी लारा ने इंग्लैंड के खिलाफ 375 रनों की पारी खेली थी. लारा अपनी विस्फोटक पारियों के लिए जाने जाते हैं. 

2. क्रिस गेल 

क्रिस गेल (Chris Gayle) ने टी20 क्रिकेट में दुनिया के सिक्सर किंग है. लाल गेंद के क्रिकेट में भी उन्होंने अपनी बल्लेबाजी के जौहर दिखाए हैं. गेल ने साल 2005 में साउथ अफ्रीका के खिलाफ 317 रन बनाए थे. वहीं साल 2010 में गेल ने श्रीलंका के खिलाफ 333 रनों की पारी खेली थी. क्रिस गेल दुनिया भर की क्रिकेट लीग में खेलते हैं. इसी वजह से पूरी दुनिया में उनके फैंस मौजूद हैं. 

3. डॉन ब्रेडमैन 

पूरी दुनिया के महान बल्लेबाज जिन्हें डॉन ब्रेडमैन (Don Bradman) ने भी अपने क्रिकेट करियर में दो तिहरे शतक जमाए हैं डॉन ने अपने दो तिहरे शतक इंग्लैंड टीम के खिलाफ ही लगाए हैं. उन्होंने 1934 में 334 रन और 1930 में 304 रनों की पारी खेली थी. इस दिग्गज खिलाड़ी ने अपने क्रिकेट करियर में सिर्फ 52 टेस्ट मैच ही खेले हैं. 

4. वीरेंद्र सहवाग 

भारत के खतरनाक बल्लेबाजों में वीरेंद्र सहवाग (Virender Sehwag) की गिनती होती है. उन्होंने टेस्ट क्रिकेट में खेलने के तरीके को ही बदल डाला वह बहुत ही तेज बल्लेबाजी करते थे. टेस्ट क्रिकेट को उन्होंने टी20 क्रिकेट की तरह से खेला. सहवाग ने पहला तिहरा शतक पाकिस्तान के खिलाफ 2004 में लगाया था. उन्होंने मुल्तान के मैदान पर 309 रनों की पारी खेली थी. वहीं, दूसरा तिहरा शतक उन्होंने चेन्नई में 2008 में साउथ अफ्रीका के खिलाफ 319 रनों की पारी खेली थी. 

विराट कोहली और BCCI के बीच फिर मिले अनबन के इशारे, अचानक क्यों हुआ पीठ दर्द?

जोहानिसबर्ग टेस्ट (Johannesburg Test) से विराट कोहली (Virat Kohli) जैसे फिट खिलाड़ी का इस तरह प्लेइंग इलेवन से बाहर होना कई सवाल खड़े कर रहा है.

नई दिल्ली: दक्षिण अफ्रीका (South Africa) के खिलाफ दूसरे टेस्ट में विराट कोहली (Virat Kohli) के बाहर होने से कई सवाल उठने शुरू हो गए हैं. टीम के कप्तान का अचानक बाहर होना इस बात की तरफ इशारा है कि ‘किंग कोहली’ और बीसीसीआई (BCCI) के बीच सबकुछ ठीक नहीं है.

विराट की जगह राहुल कर रहे हैं कप्तानी

विराट कोहली (Virat Kohli) की गैरमौजूदगी में केएल राहुल (KL Rahul) टीम इंडिया (Team India) की कप्तानी कर रहे हैं और प्लेइंग 11 में हनुमा विहारी (Hanuma Vihari) को जगह मिली. 

विराट की पीठ में हुआ दर्द

केएल राहुल (KL Rahul) ने टॉस के वक्त कहा, ‘बदकिस्मती से विराट की पीठ के ऊपरी हिस्से में ऐंठन है. वो फिजियो की निगरानी में हैं. उम्मीद है कि अगले टेस्ट तक वो ठीक हो जाएंगे’ अगर कोहली खेलते तो ये उनका 99वां टेस्ट मैच होता.

अटकलों का बाजार गर्म

जोहानिसबर्ग टेस्ट (Johannesburg Test) से विराट कोहली (Virat Kohli) के अचानक बाहर होने से क्रिकेट गलियारों में अटकलों का बाजार गर्म हो गया है. कोई उनकी रिटारमेंट की भविष्यवाणी रहा है तो कई लोगों का माना है कोहली और बीसीसीआई की अनबन इसके पीछे की वजह है.

विराट को अचानक क्यों हुआ पीठ दर्द?

विराट कोहली (Virat Kohli) को टीम इंडिया का सबसे फिट खिलाड़ी माना जाता है, वो अपने वर्कआउट पर काफी ध्यान देते हैं. टीम में फिटनेस कल्चर उनके आने के बाद ही जोर पकड़ा. इतने चुस्त खिलाड़ी का अचानक पीठ में दर्द होना शक को बढ़ा रहा है.

कोहली की बीसीसीआई से अनबन?

विराट कोहली (Virat Kohli) जोहानिसबर्ग टेस्ट (Johannesburg Test) की पूर्व संध्या पर प्रेस कॉन्फ्रेंस में भी शामिल नहीं हुए थे जिसपर वहां मौजूद पत्रकारों ने हेड कोच राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) से सवाल किए थे. 

मैच की सुबह आया चौंकाने वाली खबर

राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) की इस प्रेस कॉन्फ्रेंस की बाद विराट कोहली (Virat Kohli) टीम के बाकी प्लेयर्स के साथ प्रैक्टिस भी की थी, लेकिन मैच से पहले अचानक प्लेइंग 11 से बाहर होने पर हर कोई हैरान रह गया.

टीम इंडिया के लिए बुरी खबर! वनडे सीरीज के लिए SA टीम में इन घातक प्लेयर्स की एंट्री

IND vs SA: टीम इंडिया 19 जनवरी से साउथ अफ्रीका के खिलाफ तीन मैचों की वनडे सीरीज भी खेलनी है. वनडे सीरीज से ठीक पहले टीम इंडिया के लिए एक बुरी खबर सामने आई है.  

नई दिल्ली: भारतीय क्रिकेट टीम इस वक्त दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ तीन मैचों की टेस्ट सीरीज में भिड़ रही है. टीम इंडिया इस सीरीज के तुरंत बाद 19 जनवरी से साउथ अफ्रीका के खिलाफ तीन मैचों की वनडे सीरीज भी खेलनी है. वनडे सीरीज से ठीक पहले टीम इंडिया के लिए एक बुरी खबर सामने आई है. दरअसल दक्षिण अफ्रीका ने वनडे सीरीज के लिए एक तगड़ी टीम का चयन किया है. 

दक्षिण अफ्रीकी टीम का हुआ चयन  

युवा तेज गेंदबाज मार्को जानसेन को भारत के खिलाफ 19 जनवरी से शुरू हो रही तीन मैचों की वनडे सीरीज के लिए 17 सदस्यीय दक्षिण अफ्रीका टीम में शामिल किया गया है. 21 वर्ष के जानसेन ने पिछले सप्ताह अपने पहले टेस्ट में पांच विकेट लिए थे. मेजबान टीम के कप्तान तेम्बा बावुमा होंगे जबकि केशव महाराज उपकप्तान होंगे. अनुभवी तेज गेंदबाज एनरिच नॉर्खिया कूल्हे की चोट के कारण वनडे सीरीज भी नहीं खेल सकेंगे.

डी कॉक का भी सेलेक्शन

टीम में पूर्व कप्तान क्विंटोन डी कॉक भी हैं जिन्होंने भारत के खिलाफ पहले टेस्ट के बाद टेस्ट क्रिकेट को अलविदा कह दिया. दक्षिण अफ्रीका की चयन समिति के समन्वयक विक्टर एम ने कहा, ‘यह काफी रोमांचक समूह है. चयन समिति और मैं उनके प्रदर्शन को लेकर काफी रोमांचित हैं .’ उन्होंने कहा, ‘हमारे कई खिलाड़ियों के लिए भारत जैसी मजबूत टीम के खिलाफ खेलने से बड़ा कुछ नहीं. यह उनके लिये सबसे बड़ी सीरीज होगी.’

पहला मैच 19 जनवरी को और दूसरा 21 जनवरी को पार्ल में खेले जाएंगे. तीसरा और आखिरी मैच 23 जनवरी को केपटाउन में होगा.

दक्षिण अफ्रीका टीम:

तेम्बा बावुमा (कप्तान), केशव महाराज, क्विंटन डी कॉक, जुबैर हमजा, मार्को जानसेन, जान्नेमन मालान, सिसांडा एमगाला, एडेन मार्कराम, डेविड मिलर, लुंगी एंगिडि, वेन परनेल, एंडिले फेलुक्वायो, ड्वेन प्रिटोरियस, कैगिसो रबाडा, तबरेज शम्सी, रासी वान डेर डुसेन और काइल वेरेन्ने.  

धोनी या गांगुली में से कौन है बेस्ट कप्तान? हरभजन ने दिया चौंकाने वाला जवाब

हरभजन सिंह ने हाल ही में महेंद्र सिंह धोनी और सौरव गांगुली में से कौन बेहतर कप्तान है इसपर खुलकर बात की है. बता दें कि हरभजन ने अपने करियर में इन दोनों ही कप्तानों के साथ क्रिकेट खेली है.    

नई दिल्ली: टीम इंडिया के पूर्व दिग्गज गेंदबाज हरभजन सिंह ने हाल ही में क्रिकेट के सभी फॉर्मेट से रिटायरमेंट की घोषणा कर दी. हरभजन ने सौरव गांगुली और महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में ही अपने करियर का ज्यादातर क्रिकेट खेला. इसी बीच Zee News के एडिटर इन चीफ सुधीर चौधरी के साथ एक एक्सक्लूसिव इंटरव्यू में हरभजन सिंह ने बताया कि धोनी और गांगुली में से उन्हें ज्यादा बेहतर कप्तान कौन है.  

सुधीर चौधरी: आपको अपने लिए सबसे अच्छा कप्तान कौन लगा?

हरभजन सिंह: गांगुली, उन्होंने उस वक्त मुझे उठाया जब मैं टीम से बाहर था, मैंने अच्छा खेला और हैट्रिक लेने वाला खिलाड़ी बन गया, उसके बाद धोनी ने बहुत बढ़िया लीड किया, मैंने गांगुली के साथ काफी एन्जॉय किया, उन्होंने मुझे खेलने की पूरी आजादी दी, उसके बाद ही मैं बड़ा गेंदबाज बना.

सुधीर चौधरी: आप इतने Important मेंबर थे टीम के और आपका रिकॉर्ड इतना बेहतर था फिर भी आपको बीसीसीआई ने कैप्टन मैटीरियल नहीं माना? आपकी कप्तानी में मुंबई इंडियंस ने जीत भी हासिल की थी. 

हरभजन सिंह: मेरे पास पंजाब से बीसीसीआई में कोई था नहीं जो सपोर्ट कर सके, कप्तानी मिलती तो निश्चित तौर पर मैं बेहतर करता, मैंने हमेशा कप्तानों की मदद की है, सिर्फ और सिर्फ मेरे पास सपोर्ट करने वाले अधिकारी नहीं थे.

सुधीर चौधरी: क्या टीम इंडिया में Politics होती है? आप उसके शिकार बने?

हरभजन सिंह: मेरे साथ खराब तो हुआ, अब Politics है या नहीं ये तो नहीं पता, मैंने अपनी किताब में बेखौफ और निडर होकर लिखा है कि क्या कुछ हुआ मेरे साथ. क्रिकेटर होना कितना मुश्किल है, खास कर वो क्रिकेटर जिसकी कोई बैकिंग न हो, मेरी किताब से सब कुछ पता चलेगा.

सुधीर चौधरी: आपको हमेशा टीवी पर देखा है, आप अपने सारे इमोशंस मैदान पर कैमरे पर उतार देते थे, लेकिन आप अब शांत है, क्या ये बदलाव आपकी शख्सियत में आया है पिछले 5 सालों में?

हरभजन सिंह: उम्र के साथ बदलाव आता है. मैं शांत रहता हूं, अच्छे कोट पढ़ता हूं, जो चीजें पसंद नहीं आतीं उनसे खुद को दूर करता हूं, मैं उस खड्डे में नहीं कूदना चाहता जिसका मुझे बाद में अफसोस हो.

सुधीर चौधरी: स्ट्रेस पर पहले बात नहीं होती थी, क्या आप अपनी स्टोरी शेयर करना चाहेंगे? कभी आपका रोने का मन किया, कभी शीशा तोड़ने का मन किया? मेंटल हेल्थ पर बात करना चाहेंगे?

हरभजन सिंह: जीने का अपना-अपना तरीका होता है. कई लोग स्ट्रेस को डील नहीं कर पाते हैं, लेकिन उसके बारे में बताना चाहिए. मैं भी एक इंसान हूं, मेरे भी इमोशंस हैं, मेरे पीछे लोग पड़े रहे, मुझे नीचे खींचते रहे, मुझे भी रोना तो आता है, नींद नहीं आती, इमोशंस इधर-उधर होते हैं. ऐसी कई रातें गुजारी हैं जब नींद नहीं आई है, मैच का स्ट्रेस हो या फिर सेलेक्शन का हो. जब मैदान से बाहर कर दिया गया, 400 विकेट लेने वाले क्रिकेटर को बाहर कर दिया गया. वजह क्या थी, कोई बताएगा? वक्त के साथ डील करना आ जाता है, नानक साहब ने भी कहा था कि संसार में सभी दुखी हैं, अगर सुखी होना है तो अपने भीतर ही खुशी ढूंढनी होगी,  उन चीजों से कनेक्ट करो जिनसे आपको खुशी मिलती है. निगेटिव लोगों और विचारों से दूर रहो.

सुधीर चौधरी: आर अश्विन क्या आपसे अच्छे बॉलर थे?

हरभजन सिंह: वो बॉलर तो अच्छे हैं, उनका रिकॉर्ड अच्छा है, वो काबिल हैं, उन्होंने मैच जिताए हैं, भले ही उनमें से ज्यादातर मैच भारत में ही हुए. जब अश्विन को चुना गया था तो मैं तब तक 400 विकेट ले चुका था, ऐसा तो था नहीं कि तब तक मैं खराब हो गया था, और जब वो खेलने लगे तो मुझे इंतजार करना पड़ा, मुझे उसके बाद मौका ही नहीं मिला. चाहे मैं रणजी में अच्छा खेल कर ऊपर आता था फिर भी मुझे मौका नहीं मिलता था. मैं वनडे और टी-20 में बहुत अच्छा खेलता था, मेरा रिकॉर्ड देखेंगे तो हैरान रह जाएंगे कि मैं क्यों बाहर कर दिया गया. मुझे वनडे खेलने का मौका ही नहीं मिला, टी-20 में भी खिलाया नहीं गया. और जब मुझे एक बार घर भेज दिया उसके बाद किसी ने याद नहीं किया.

एक झटके में खत्म हुआ इस दिग्गज क्रिकेटर का करियर, अब तो IPL टीम ने भी दिखाया ठेंगा

टीम इंडिया आज से दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ तीन मैचों की टेस्ट सीरीज में भिड़ने वाली है. इस दौरे के लिए कुछ नए खिलाड़ियों को टीम में मौका दिया गया है. लेकिन टीम इंडिया के कुछ दिग्गज खिलाड़ी ऐसे भी हैं जिनका करियर अब लगभग खत्म हो गया है.

नई दिल्ली: टीम इंडिया आज से दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ तीन मैचों की टेस्ट सीरीज में भिड़ने वाली है. भारतीय टीम इसके बाद इसी दौरे पर तीन ही मैचों की वनडे सीरीज भी खेलेगी. इस दौरे के लिए कुछ नए खिलाड़ियों को टीम में मौका दिया गया है. लेकिन टीम इंडिया के कुछ दिग्गज खिलाड़ी ऐसे भी हैं जिनका करियर अब लगभग खत्म हो गया है. एक खिलाड़ी तो ऐसा है जो टीम से तो बाहर है ही, इसके अलावा उसे उसकी आईपीएल टीम ने भी ठेंगा दिखा दिया है. 

खत्म हुआ इस खिलाड़ी का करियर

टीम इंडिया और आईपीएल में सनराइजर्स हैदराबाद के लिए खेलने वाले केदार जाधव इस वक्त अपने करियर की सबसे खराब दौर से गुजर रहे हैं. जाधव लंबे समय से टीम इंडिया से बाहर चल रहे हैं. जाधव ने टीम इंडिया के लिए अपना आखिरी मैच पिछले साल फरवरी में खेला था और अब कप्तान विराट कोहली उन्हें टीम में लेना भी पसंद नहीं करते. टीम इंडिया के लिए लगातार खराब खेलने वाले जाधव आईपीएल 2021 में अपनी टीम सनराइजर्स हैदराबाद के लिए भी बेहद खराब खेले. जिसके बाद इस टीम ने उन्हें बाहर का रास्ता दिखा दिया. 

आईपीएल टीम से भी हुए ड्रॉप

लगातार खराब प्रदर्शन के बाद केदार जाधव को अब उनकी आईपीएल टीम ने भी ड्रॉप कर दिया है. आईपीएल के पहले फेज की ही तरह दूसरे फेज में भी जाधव का बल्ला बिल्कुल नहीं चल पाया था. जिसके बाद उन्हें टीम से निकाल दिया गया. बता दें कि जाधव को एमएस धोनी की टीम सीएसके ने भी खराब प्रदर्शन के लिए ड्रॉप कर दिया था. ऐसे में अब उनके करियर पर खत्म होने का खतरा मंडरा रहा है. 

हैदराबाद की नैया भी डूबी 

केधार जाधव की टीम सनराइजर्स हैदराबाद भी इस साल आईपीएल में सबसे ज्यादा खराब खेलने वाली टीम रही. 14 मैचों में से इस टीम को 11 में हार का सामना करना पड़ा है और प्लेऑफ की रेस से भी ये टीम सबसे पहले बाहर हुई थी. ये आईपीएल इतिहास में पहला ही मौका है जब हैदराबाद की टीम टेबल में सबसे नीचे रही. जाधव को लगभग 1 साल से ज्यादा हो गया है लेकिन उन्हें अब भारतीय टीम से बाहर कर दिया गया है.   

टीम इंडिया में होगी इन खूंखार गेंदबाजों की एंट्री! इन खिलाड़ियों के लिए बने सिरदर्द

India vs South Africa : साउथ अफ्रीका दौरे के लिए भारत की वनडे टीम का ऐलान अभी नहीं हुआ है. इस टूर पर आईपीएल और घरेलू टूर्नामेंट में धमाकेदार प्रदर्शन करने वाले कई युवा खिलाड़ियों को मौका मिल सकता है. इन्होंने अपनी गेंदबाजी से सभी का दिल जीत लिया है. 

नई दिल्ली: भारत ने हमेशा ही एक से बढ़कर एक खिलाड़ी दुनिया को दिए है. भारतीय बल्लेबाजों का डंका पूरी दुनिया में बजता है, लेकिन अब भारत के पास तेज गेंदबाजों की फौज तैयार है, जो ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड में जाकर अच्छा प्रदर्शन कर सकते हैं. आईपीएल और घरेलू क्रिकेट में कई युवा खिलाड़ियों ने शानदार खेल का नजारा पेश किया है. इन प्लेयर्स को साउथ अफ्रीका टूर पर मौका मिल सकता है. अगर ये प्लेयर्स साउथ अफ्रीका टूर पर शामिल होते हैं तो कई खिलाड़ियों के लिए सिरदर्द बन सकते हैं. आइए जानते हैं, इन खिलाड़ियों के बारे में. 

 1. आवेश खान 

आवेश खान (Avesh Khan) ने आईपीएल 2021 में अपने धमाकेदार प्रदर्शन से पूरी दुनिया में अपना नाम बना लिया है. इस गेंदबाज ने आईपीएल 2021 में दिल्ली कैपिटल्स की तरफ से खेलते हुए 16 मैचों में 24 विकेट हासिल किए. आवेश बड़े मैचों के खिलाड़ी हैं और कुछ ही गेंदों में मैच पलटने का दम रखते हैं. उनकी धीमी गति की गेंदों पर विकेट लेने की कला से सभी अच्छी तरह से वाकिफ हैं. आवेश को न्यूजीलैंड के खिलाफ सीरीज में भी शामिल किया था, लेकिन इस गेंदबाज को एक भी मैच खेलने का अवसर नहीं मिला. अब साउथ अफ्रीका के लिए वनडे टीम का ऐलान होना है ऐसे में इस घातक गेंदबाज को भुवी की जगह शामिल किया जा सकता है. 

2. चेतन सकारिया 

चेतन सकारिया  (Chetan Sakariya) ने राजस्थान की टीम के लिए शानदार प्रदर्शन कर सभी का दिल जीत लिया है. चेतन ने घरेलू टूर्नामेंट विजय हजारे ट्रॉफी (Vijay Hazare Trophy) में भी शानदार प्रदर्शन का नजारा पेश किया है. इस टूर्नामेंट में चेतन ने 7 मैचों में 13 विकेट हासिल किए हैं. उनकी धीमी गति की गेंदों पर विकेट लेने की कला से सभी अच्छी तरह से वाकिफ हैं. आईपीएल 2021 में ही चेतन ने शानदार प्रदर्शन किया था और राजस्थान की ओर से 14 मैचों में 14 विकेट हासिल किए थे. उनकी धारदार गेंदबाजी का तोड़ किसी भी बल्लेबाज के पास नहीं था. 

3.अर्शदीप सिंह

अर्शदीप सिंह (Arshdeep Singh)  ने आईपीएल में घातक गेंदबाजी से सभी का दिल जीत लिया था. पंजाब किंग्स की तरफ से खेलते हुए इस गेंदबाज 12 मैचों में 18 विकेट हासिल किए थे, उनके इसी प्रदर्शन को देखते हुए पंजाब किंग्स ने उन्हें रिटेन किया है. केएल राहुल की कप्तानी में इस गेंदबाज ने शानदार खेल का नजारा पेश किया. जब भी राहुल को विकेट की जरूरत होती थी. वह अर्शदीप का नंबर घुमा देते थे. ये गेंदबाज बहुत ही घातक गेंदबाजी करता है. ऐसे में अर्शदीप को साउथ अफ्रीका दौरे पर शामिल किया जा सकता है. 

इन खिलाड़ियों के लिए बने सिरदर्द 

भारत के तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार (Bhuvneshwar Kumar) बहुत ही खराब फॉर्म से जूझ रहे हैं. उनका स्विंग का जादू खत्म हो चुका है और वह विकेट लेने के लिए तरस रहे हैं. न्यूजीलैंड के खिलाफ और टी20 वर्ल्ड कप में भी अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाए थे. वहीं स्टार तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी (Mohammed Shami) भी वनडे टीम से काफी दिनों से बाहर चल रहे हैं. ऐसे में उनके करियर पर तलवार लटकती हुई दिखाई दे रही है. 

रोहित के हाथों में है इन खिलाड़ियों का डूबता करियर, साउथ अफ्रीका टूर पर देंगे मौका!

India vs South Africa: भारत और साउथ अफ्रीका के 3 वनडे मैचों की सीरीज खेली जानी है, जिसके लिए अभी टीम इंडिया का ऐलान नहीं हुआ है. ऐसे में दो खिलाड़ियों को रोहित शर्मा अपनी टीम में शामिल कर सकते हैं. ये खिलाड़ी काफी दिनों से बाहर चल रहे हैं. 

नई दिल्ली: भारत ने देश और दुनिया को कई खिलाड़ी दिए हैं. अब टीम इंडिया के वनडे टीम की कमान धमाकेदार बल्लेबाज रोहित शर्मा के हाथों में है. नए कप्तान के आने से टीम में कई बदलाव होने तय हैं. कई खिलाड़ी ऐसे हैं पिछले कई सालों में विराट कोहली की कप्तानी में ज्यादा मौके नहीं मिले हैं. ऐसे में रोहित शर्मा इन्हें टीम में मौका देकर इनके करियर के डूबते जहाज को बचा सकते हैं. इन प्लेयर्स को साउथ अफ्रीका दौरे पर शामिल किया जा सकता है. साउथ अफ्रीका के खिलाफ वनडे टीम का ऐलान अभी नहीं हुआ है. आइए जानते हैं, इन प्लेयर्स के बारे में. 

खतरे में इस खिलाड़ी का करियर 

चाइनामैन गेंदबाज कुलदीपर यादव काफी दिनों से टीम इंडिया से बाहर चल रहे हैं. उनकी गेंदों में वो धार नजर नहीं आ रही है, जिसके लिए वो जाने जाते हैं. उनकी गेंदों पर विपक्षी बल्लेबाज जमकर रन बना रहे हैं. इस जादुई स्पिनर को टी20 वर्ल्ड कप 2021 में भी जगह नहीं मिली थी. कुलदीप को न्यूजीलैंड के खिलाफ सीरीज से बाहर का रास्ता दिखाया गया था. उनकी गेंदों को टर्न नहीं मिल रहा है और काफी दिनों से वो अपनी लय में नजर नहीं आ रहे हैं. टीम इंडिया में कई युवा स्पिनर्स ने अपनी जगह पक्की कर ली है, जिसकी वजह से उनका पत्ता इंटरनेशनल टीम से साफ हो गया है. राहुल चाहर और वरुण चक्रवर्ती जैसे स्पिनरों ने अपने दम पर टीम इंडिया में जगह बनाई है. कुलदीप अपनी चोट से भी परेशान रहे हैं. 

कुलदीप का करियर

कुलदीप यादव ने 22 टी20 मैचों में 41 विकेट लिये हैं. उन्होंने 45 आईपीएल मुकाबले भी खेले हैं जिनमें उनके 40 विकेट हैं. कुलदीप का वनडे करियर भी शानदार रहा है. उन्होंने 65 वनडे में 107 विकेट झटके हैं. ये आंकड़े कुलदीप यादव की प्रतिभा का आकलन करने के लिये पर्याप्त हैं. टी20 फॉर्मेट में उनका इकनॉमी रेट भी 8 से कम है. अभी कुलदीप काफी युवा हैं और उनमें अभी काफी क्रिकेट बाकी है अगर इस गेंदबाज को साउथ अफ्रीका दौरे पर मौका मिलता है तो ये वापसी कर सकता है. 

खराब फॉर्म से जूझ रहा ये घातक बल्लेबाज

कभी टीम इंडिया की तरफ से शिखर धवन नंबर एक बल्लेबाज थे, लेकिन खराब फॉर्म की वजह से उनको टीम से बाहर कर दिया गया. काफी दिनों से उनका बल्ला रनों के लिए तरस रहा है. उनके लिए रन बनाना ऐसा हो गया है जैसे लोहे के चने चबाना.  वह अब 36 साल के हो चुके हैं उनकी उम्र का असर उनके फॉर्म पर भी दिखता है. धवन को टी20 वर्ल्ड कप से भी बाहर का रास्ता दिखाया गया था और न्यूजीलैंड के खिलाफ भी इस खिलाड़ी को मौका नहीं मिला था. कभी रोहित शर्मा और शिखर धवन की ओपनिंग जोड़ी का बल्ला सारी दुनिया पर गरजता था, लेकिन अब धवन की जगह ओपनर केएल राहुल ने ली है. ऐसे में अगर धवन को साउथ अफ्रीका टूर पर मौका नहीं मिलता है तो उनके करियर पर पावरब्रेक लग सकता है. 

रोहित शर्मा देंगे मौका? 

अभी साउथ अफ्रीका के लिए वनडे टूर का ऐलान नहीं हुआ ऐसे में इन दोनों खिलाड़ियों को टीम में शामिल किया जा सकता है. धवन का प्रदर्शन साउथ अफ्रीका के खिलाफ हमेशा ही अच्छा रहा है. वह वहां फॉर्म में लौटकर बल्ले से कमाल दिखा सकते हैं. रोहित और शिखर ने ओपनिंग कर टीम इंडिया को कई मैच जिताए हैं. वहीं, कुलदीप अगर लय में आ जाएं तो ये भारत के लिए बहुत ही ज्यादा फायदेमंद होगा.  

Under-19 World Cup के लिए भारतीय टीम का ऐलान, ये खिलाड़ी बनाया गया कप्तान..

दिल्ली के बल्लेबाज यश धुल 14 जनवरी से 5 फरवरी तक वेस्टइंडीज में होने वाले अंडर-19 विश्व कप में भारत की 17 सदस्यीय टीम की कप्तानी करेंगे. 

नई दिल्ली: दिल्ली के बल्लेबाज यश धुल 14 जनवरी से 5 फरवरी तक वेस्टइंडीज में होने वाले अंडर-19 विश्व कप में भारत की 17 सदस्यीय टीम की कप्तानी करेंगे. बीसीसीआई (भारतीय क्रिकेट बोर्ड) ने रविवार को यह घोषणा की. चार बार की विजेता भारतीय टीम को ग्रुप बी में दक्षिण अफ्रीका, आयरलैंड और युगांडा के साथ रखा गया है.

धुल इस वजह से बने कप्तान

धुल की कप्तान के तौर पर नियुक्ति की उम्मीद थी क्योंकि उन्हें आगामी एशिया कप के लये भी कप्तान चुना गया था जो 23 दिसंबर से संयुक्त अरब अमीरात में होगा. आंध्र के एसके रशीद उप कप्तान होंगे. बीसीसीआई की विज्ञप्ति के अनुसार, ‘अखिल भारतीय जूनियर चयन समिति ने वेस्टइंडीज में 14 जनवरी से पांच फरवरी तक खेले जाने वाले आगामी आईसीसी अंडर-19 पुरुष क्रिकेट विश्व कप के लिये भारतीय टीम चुनी है.’ टूर्नामेंट के 14वें चरण में 16 टीमें खिताब के लिये 48 मैचों में आमने सामने होंगी.

इतिहास में भारत का कमाल

भारत सबसे सफल टीम है जिसने सबसे ज्यादा चार बार – 2000, 2008, 2012 और 2018 – में खिताब जीते हैं. भारत 2016 में और 2020 में उप विजेता रहा था. दिल्ली के धुल इस तरह टूर्नामेंट में जूनियर टीम की कप्तानी करने के मामले में विराट कोहली के साथ शामिल हो गए. वह इससे पहले दिल्ली अंडर-16, अंडर-19 और भारत ‘ए’ अंडर-19 टीमों की अगुआई कर चुके हैं. टूर्नामेंट के प्रारूप में चार ग्रुप से प्रत्येक में से शीर्ष दो टीमें सुपर लीग तक पहुंचेंगी जबकि बची हुई टीमें 23 दिन की प्रतियोगिता में प्लेट ग्रुप में खेलेंगी. भारतीय टीम अपने अभियान की शुरूआत 15 जनवरी को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ करेगी.

वर्ल्ड कप के लिए भारतीय टीम:

भारतीय टीम इस प्रकार है: यश धुल (कप्तान), हरनूर सिंह, अंगकृष रघुवंशी, एसके रशीद (उप कप्तान), निशांत सिंधू, सिद्धार्थ यादव, अनीश्वर गौतम, दिनेश बाना (विकेटकीपर), राज अंगद बावा, मानव पारख, कौशल ताम्बे, आरएस हंगारेश्कर, वासु वत्स, विक्की ओस्तवाल, रविकुमार, गर्व सांगवान.

स्टैंडबाय खिलाड़ी : रिशित रेड्डी, उदय शरण, अंश गोसाई, अमृत राज उपाध्याय, पीएम सिंह राठौड़.

विराट-शास्त्री पर लगाए गए बड़े आरोप, इस खिलाड़ी का मिलकर कर दिया करियर खत्म!..

रवि शास्त्री टी20 वर्ल्ड कप के साथ ही भारतीय क्रिकेट टीम के कोच पद से इस्तिफा दे चुके हैं. वहीं विराट कोहली भी इसी टूर्नामेंट के साथ टी20 टीम की कमान छोड़ चुके हैं. अब इसी बीच विराट और शास्त्री पर एक खिलाड़ी के करियर को खत्म करने के आरोप लग रहे हैं. 

नई दिल्ली: रवि शास्त्री टी20 वर्ल्ड कप के साथ ही भारतीय क्रिकेट टीम के कोच पद से इस्तिफा दे चुके हैं. वहीं विराट कोहली भी इसी टूर्नामेंट के साथ टी20 टीम की कमान छोड़ चुके हैं. इसके अलावा हाल ही में बीसीसीआई ने विराट को वनडे कप्तानी से भी हटा दिया है. अब इसी बीच विराट और शास्त्री पर एक खिलाड़ी के करियर को खत्म करने के आरोप लग रहे हैं. 

विराट-शास्त्री ने खत्म किया करियर?

बाएं हाथ के स्पिनर कुलदीप यादव के बचपन के कोच कपिल देव पांडे का मानना है कि जब कुलदीप बेहतरीन फॉर्म में थे तो उनको नियमित अवसर नहीं दिए गए, क्योंकि ऐसा लगता है कि वह टीम इंडिया के तत्कालीन कप्तान और कोच के पसंदीदा खिलाड़ियों में से नहीं थे, इसलिए उन्हें दरकिनार कर दिया गया है. सिडनी में पांच विकेट लेने के बाद यादव के पिछले दो साल सघंर्ष भरे रहे हैं. 2019 में विदेशी परिस्थितियों में उस समय के तत्कालीन कोच रवि शास्त्री ने उन्हें भारत का नंबर 1 स्पिनर करार दिया था.

कुलदीप को नहीं दिया गया मौका

पिछले कुछ वर्षों में, यूपी में जन्मे स्पिनर विभिन्न कारणों से भारत के बाकी स्पिनरों की तुलना में नीचे चले गए हैं. उन्होंने भारतीय टीम प्रबंधन का विश्वास भी खो दिया है. इसलिए उनकी जगह बाएं हाथ के स्पिनर शाहबाज नदीम को अतिरिक्त खिलाड़ी के रूप में चुना गया था. लेकिन यादव को अक्टूबर 2019 से कोई भी मौका नहीं मिला है. यादव टेस्ट क्रिकेट में अपनी जगह नहीं बना पाए हैं, जहां उन्होंने 23.85 की औसत से 26 विकेट लिए हैं. वहीं, सबसे लंबे फॉर्मेट में चुनावी प्रक्रिया में आर अश्विन और रवींद्र जडेजा जैसे पसंदीदा खिलाड़ियों से पीछे रह गए हैं.

इस बीच, उनके बचपन के कोच पांडे का कहना है, ‘अश्विन और जडेजा वास्तव में अच्छे गेंदबाज हैं, लेकिन जब कुलदीप अच्छा प्रदर्शन कर रहे थे, तब भी उन्हें मौके नहीं मिले थे. मुझे लगता है कि चोट से पहले भी कुलदीप उस समय के कप्तान और कोच के मन पसंदीदा खिलाड़ियों में नहीं थे, इसलिए उन्हें दरकिनार कर दिया गया था और भारतीय टीम से भी हटा दिया गया था. कोच ने आईएएनएस को बताया, ‘कुछ लोग कहते हैं कि उनका फॉर्म एक मुद्दा था लेकिन मुझे बताओ, उसे कितने मौके मिले? वह विकेट ले रहे थे. आप छह गेंदों में छह विकेट की उम्मीद नहीं कर सकते. ऐसा लगता है कि वह वास्तव में कोच और कप्तान के पसंदीद खिलाड़ी नहीं थे. यही एकमात्र कारण है जिसकी वजह से उन्हें ज्यादा मौके नहीं मिले.’

आईपीएल से भी कटा पत्ता

यादव की आईपीएल फ्रेंचाइजी कोलकाता नाइट राइडर्स ने भी आईपीएल 14 के पहले चरण में मिस्ट्री स्पिनर वरुण चक्रवर्ती के लिए उनकी अनदेखी की थी और बाद में केकेआर ने यादव को अगले साल होने वाली आईपीएल मेगा नीलामी के लिए उन्हें रिलीज करने का फैसला किया. यादव चोट के कारण इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) 14 के दूसरे चरण से बाहर होने के बाद से क्रिकेट से दूर हैं. लेकिन, अब वह नियमित प्रशिक्षण के लिए लौट आए हैं.

CSK का बड़ा खुलासा, ऑक्शन में इस खिलाड़ी को खरीदने के लिए सब लुटा देगी धोनी की टीम!

आईपीएल 2022 के मेगा ऑक्शन से पहले 4 बार की चैंपियन सीएसके ने एमएस धोनी, रवींद्र जडेजा, ऋतुराज गायकवाड़ और मोईन अली को रिटेन किया है. लेकिन रिटेंशन के नियमों को देखते हुए सीएसके कई तगड़े खिलाड़ियों रिटेन नहीं कर पाई. जिनको वो अब ऑक्शन में खरीदना चाहेगी. 

नई दिल्ली: आईपीएल 2022 के मेगा ऑक्शन से पहले 4 बार की चैंपियन सीएसके ने एमएस धोनी, रवींद्र जडेजा, ऋतुराज गायकवाड़ और मोईन अली को रिटेन किया है. इस टीम को चैंपियन बनाने में और भी कई खिलाड़ियों का बड़ा हाथ रहा है लेकिन रिटेंशन के नियमों को देखते हुए सीएसके सभी को रिटेन नहीं कर पाई. हालांकि अब सीएसके की ओर से एक बड़ा खुलासा ये हुआ है कि वो आगामी ऑक्शन में सबसे पहले किस खिलाड़ी को खरीदने वाले हैं.

इस खिलाड़ी को सबसे पहले खरीदेगी सीएसके 

आईपीएल फ्रेंचाइजियों को ऑक्शन से पहले अधिकतम 4 ही प्लेयर्स रिटेन करने की इजाजत थी, ऐसे में सबसे बड़े ‘मैच विनर’ कहे जाने वाले फॉफ डुप्लेसी को भी इस टीम को रिलीज करने पर मजबूर होना पड़ा. डु प्लेसी हमेशा से ही सीएसके के खिताब जीतने में एक अहम रोल निभाते हुए आए हैं. लेकिन अब सीएसके के फैंस को लिए एक अच्छी खबर ये आई है कि इस खिलाड़ी को रिटेन करने के लिए ये टीम ऑक्शन में जोर लगा देने वाली है. 

सीएसके ने हाल ही में एक वीडियो पोस्ट किया था, जिसमें उनके सीईओ काशी विश्वनाथ ने हम चाहते हैं कि फाफ डू प्लेसी वापस टीम में आएं. वो हमारे लिए हमेशा से एक बेहतरीन खिलाड़ी रहे हैं और दो सीजन हमको फाइनल तक भी लेकर गए हैं. इसलिए अब हमारा फर्ज बनता है कि उनको टीम में लाने की कोशिश की जाए. हम ऑक्शन में इस चीज की पूरी कोशिश करेंगे.’

सबसे सफल टीमों में से एक है सीएसके 

सीएसके आईपीएल की दो सबसे सफल टीमों में से एक है. महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी वाली इस टीम ने अभी तक कुल 4 बार आईपीएल की ट्रॉफी अपने नाम की है. वहीं इस टीम ने अबतक सबसे ज्यादा 9 बार इस लीग का फाइनल खेला है. सीएसके से ज्यादा सिर्फ मुंबई इंडियंस ने 5 बार आईपीएल की ट्रॉफी अपने नाम की है. हालांकि इस साल तो मुंबई प्लेऑफ तक भी नहीं पहुंच पाई थी. 

कब होगा IPL मेगा ऑक्शन?

आईपीएल 2022 मेगा ऑक्शन (IPL 2022 Mega Auction) के मेगा ऑक्शन की तारीखों का ऐलान अभी नहीं हुआ है, लेकिन उम्मीद जताई जा रही है कि दिसंबर 2021 या जनवरी 2022 में इस बड़े इवेंट को आयोजित किया जा सकता है. देखना होगा कि सीएसके अपने कितने पुराने खिलाड़ी को टीम में वापस शामिल करने में कामयाब रहती है.

विराट ने 4 साल तक रखा टीम से बाहर! रोहित के आते ही सबसे बड़ा मैच विनर बना ये खिलाड़ी

रोहित शर्मा को हाल ही में भारत की टी20 टीम का नया कप्तान नियुक्त किया गया है. रोहित के आते ही एक खिलाड़ी की किस्मत पूरी तरह चमक गई है और वो आने वाले समय में टीम का परमानेंट सदस्य भी बन सकता है. 

नई दिल्ली: टी20 वर्ल्ड कप के खत्म होते ही विराट कोहली ने भारत की टी20 टीम की कप्तानी छोड़ दी है. इसी के साथ रोहित शर्मा को इस टीम की कमान सौंपी जा चुकी है. हिटमैन के आते ही टीम ने कमाल मचाना शुरू कर दिया है. न्यूजीलैंड के खिलाफ रोहित की टीम ने 3-0 से टी20 सीरीज जीती. वहीं रोहित की कप्तानी में एक ऐसा खिलाड़ी भी दम दिखा रहा है जो कई सालों से टीम से बाहर था. 

रोहित की कप्तानी में स्टार बना ये खिलाड़ी

टीम इंडिया के सबसे दिग्गज स्पिन गेंदबाज रविचंद्रन अश्विन ने टेस्ट क्रिकेट के बाद अब एक बार फिर से सीमित ओवर क्रिकेट में भी कमाल दिखाना शुरू कर दिया है. टेस्ट में अश्विन हमेशा से ही टीम की सबसे बड़ी ताकत रहे हैं. लेकिन अश्विन पिछले चार सालों से टी20 टीम से बाहर चल रहे थे. हालांकि उन्होंने अब एक धमाकेदार वापसी की है. टी20 वर्ल्ड कप के बाद अब अश्विन ने न्यूजीलैंड के खिलाफ भी कमाल की गेंदबाजी की. अश्विन ने न्यूजीलैंड के खिलाफ टी20 सीरीज में सबसे किफायती गेंदबाजी करते हुए कई विकेट्स भी झटके. एक समय युजवेंद्र चहल और कुलदीप यादव की वजह से टीम से ड्रॉप किए गए अश्विन को अपने करियर में रोहित की कप्तानी में एक नया मुकाम हासिल करने का मौका मिला है.

कोहली से रहती है अनबन! 

ऐसा माना जाता है कि कप्तान विराट कोहली के साथ रविचंद्रन अश्विन की थोड़ी अनबन रहती है. ड्रेसिंग रूम में भी इन दोनों खिलाड़ियों की बहस की खबरें सामने आती रही हैं. बीच में ये भी खबरें सामने आईं थीं कि अश्विन ने बीसीसीआई से कोहली की शिकायत की थी, लेकिन फिर खुद इस दिग्गज गेंदबाज ने ही इन बातों को खारिज किया. आईपीएल में भी एक बार कोहली को अश्विन के साथ खराब बर्ताव करते हुए देखा जा चुका है. 

4 साल से थे बाहर 

रविचंद्रन अश्विन ने 9 जुलाई 2017 के बाद इस साल पहली बार टी-20 इंटरनेशनल क्रिकेट खेला. आईसीसी टी-20 वर्ल्ड कप 2021 के लिए जब उनका सेलेक्शन हुआ तब उन्होंने पिछले 4 साल की कसर 4 मैचों में निकाली. ये गेंदबाज महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में सबसे बड़ा मैच विनर हुआ करता था, जिसके बाद अब रोहित की कप्तानी में भी अश्विन का कमाल देखने को मिल रहा है. 

पिछले 5 टी20 मैचों में लिए 9 विकेट

रविचंद्रन अश्विन ने पिछले 5 मैचों में बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए कुल 9 विकेट हासिल किए हैं. उन्होंने साबित किया है कि वो क्रिकेट के सबसे छोटे फॉर्मेट के लिए पूरी तरह से प्रभावी हैं. इन रिकॉर्ड्स को देखकर कप्तान रोहित शर्मा उन्हें नजरअंदाज नहीं कर पाएंगे. यही वजह है कि अब अश्विन लंबे समय तक टीम में टिकने वाले हैं.

पुजारा और रहाणे में से कौन होगा दूसरे टेस्ट मैच से बाहर? बॉलिंग कोच ने किया खुलासा

India vs New Zealand: भारत और न्यूजीलैंड के बीच दो टेस्ट मैचों की सीरीज का पहला टेस्ट मैच ड्रॉ रहा था. अब मुंबई में होने वाले टेस्ट पर सभी की निगाहें है. इस मैच में विराट कोहली की वापसी होगी. वहीं अजिंक्य रहाणे और चेतेश्वर पुजारा में से कौन इस टेस्ट मैच में खेलेगा. इसका जबाव गेंदबाजी कोच ने दे दिया है. 

नई दिल्ली: भारत और न्यूजीलैंड के बीच दो टेस्ट मैचों की पहला टेस्ट मैच ड्रॉ रहा था. मुंबई के वानखेड़े मैदान में दूसरा टेस्ट मैच खेला जाएगा. इस मैच में विराट कोहली की वापसी होगी. टीम इंडिया के दो दिग्गज बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा और अजिंक्य रहाणे की खराब फॉर्म चिंता का विषय हैं. ऐसे में उनके टीम में होने पर सवाल उठाए जा रहे हैं. भारत के गेंदबाजी कोच पारस म्हाम्ब्रे ने बताया है कि दूसरे टेस्ट मैच में कौन खेलेगा. 

गेंदबाजी कोच ने दिया जबाव

भारत के गेंदबाजी कोच पारस म्हाम्ब्रे ने बुधवार को कहा कि न्यूजीलैंड के खिलाफ शुक्रवार को दूसरे टेस्ट मैच से पहले टीम सीनियर बल्लेबाजों अजिंक्य रहाणे और चेतेश्वर पुजारा का समर्थन कर रही है. उनका मानना है कि यह बल्लेबाज जल्द ही फॉर्म में वापस लौटेंगे. गेंदबाजी कोच ने कहा, ‘मुझे लगता है कि अजिंक्य और पुजारा दोनों को हम जानते हैं कि उनके पास बहुत अनुभव है। उन्होंने पर्याप्त क्रिकेट खेला और हम एक टीम के रूप में भी जानते हैं कि वे फॉर्म में वापस आने से एक पारी दूर हैं. इसलिए, एक टीम के रूप में हम सब उनका समर्थन कर रहे हैं.’

खराब फॉर्म में हैं ये बल्लेबाज 

भारत के दिग्गज बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा (Cheteshwar Pujara) और अजिंक्य रहाणे (Ajinkya Rahane) खराब फॉर्म से जूझ रहे हैं. उनके बल्ले से रन नहीं निकल रहे हैं. 2021 में खेले गए टेस्ट मैचों में रहाणे ने 21 पारियों में 19.57 की औसत से सिर्फ 411 रन बनाए हैं, जिसमें केवल दो अर्धशतक शामिल हैं. कानपुर टेस्ट में रहाणे ने 35 और 4 रन का स्कोर बनाया, जिसके बाद उनका बल्लेबाजी औसत 40 से नीचे चला गया. दूसरी ओर पुजारा दो साल कोई भी शतक नहीं लगा पाए हैं. पुजारा का बल्ला काफी दिनों से खामोश है. पहले टेस्ट मैच में विराट कोहली की गैरमौजूदगी में इन दोनों पर रन बनाने की जिम्मेदारी थी, लेकिन ये दोनों बल्लेबाज इसमें विफल रहे. पुजारा ने कानपुर टेस्ट में बल्ले से कमाल करने में फेल रहे थे. उन्होंने दोनों पारियों में 26 और 22 रन बनाए. 

युवाओं  को मिल सकता है मौका 

मुंबई में होने वाले दूसरे टेस्ट मैच से भारत के नियमित कप्तान विराट कोहली की वापसी होगी. टीम में सूर्यकुमार यादव और श्रेयस अय्यर जैसे युवा बल्लेबाज पुजारा और रहाणे की जगह लेने के लिए तैयार बैठे हैं. अगर इन दोनों बल्लेबाजों की खराब फॉर्म जारी रहती है तो इनका टीम से पत्ता कटना तय है. 

पहला टेस्ट मैच रहा था ड्रॉ 

भारत और न्यूजीलैंड (India vs New Zealand) के बीच दो मैचों की टेस्ट सीरीज का पहला मुकाबला ड्रॉ हो गया. टीम इंडिया ने जीत का सुनहरा मौका हाथ से गंवा दिया. कानपुर के ग्रीन पार्क में कीवी टीम के आखिरी बल्लेबाज रचिन रवींद्र और एजाज पटेल ने गजब का संयम दिखाया और आखिरी विकेट गिरने नहीं दिया. न्यूजीलैंड ने अपनी दूसरी पारी में 9 विकेट खोकर 165 रन बनाए, रचिन रवींद्र 18 और एजाज पटेल 2 रन बनाकर नॉट आउट रहे जिसकी वजह से मैच ड्रॉ हो गया. भारतीय गेंदबाजों ने पूरी कोशिश की लेकिन अपनी टीम को जीत दिलाने में नाकाम रहे.   

टीम इंडिया भी रद्द कर सकती है साउथ अफ्रीका दौरा? इस वजह से बढ़ी टेंशन

भारतीय क्रिकेट टीम को दिसंबर के पहले हफ्ते में दक्षिण अफ्रीका के दौरे पर जाना है, जहां 3 टेस्ट, 3 वनडे और 4 टी20 इंटरनेशनल मैच खेले जाने हैं हैं, लेकिन कोरोना वायरस के नए वेरिएंट से टेंशन बढ़ गई है.  

कानपुर: यूरोप और अफ्रीकी देशों में दहशत पैदा करने वाले कोरोना वायरस के नए वेरिएंट (Coronavirus New Variant) की वजह से टीम इंडिया (Team India) के अगले महीने के दक्षिण अफ्रीका दौरे को लेकर चिंता पैदा हो गई है और आने वाले दिनों में खिलाड़ियों के लिए क्वारंटीन के नियमों में बदलाव हो सकता है.

टीम इंडिया को जाना है दक्षिण अफ्रीका

टीम इंडिया को 17 दिसंबर से शुरू होने वाले अपने तकरीबन 7 हफ्ते के दौरे में 3 टेस्ट, 3 वनडे और 4 टी20 इंटरनेशनल मैच खेलने हैं. ये मैच चार वेन्यूज जोहानिसबर्ग, सेंचुरियन, पार्ल और केपटाउन में खेले जाएंगे. दक्षिण अफ्रीका के उत्तरी हिस्से में मामले बढ़ रहे हैं और टेस्ट सीरीज के कम से कम दो मैदानों जोहानिसबर्ग और प्रिटोरिया (सेंचुरियन के करीब) में इस नए वेरिएंट की चपेट में आ सकते हैं.

क्या रद्द होगा भारत का दक्षिण अफ्रीकी टूर?

बीसीसीआई (BCCI) के एक सीनियर अधिकारी ने शुक्रवार को पीटीआई से कहा, ‘देखिए जब तक हमें क्रिकेट दक्षिण अफ्रीका (CSA) से वहां के हालात का पता नहीं चल जाता तब तक हम अपने अगले कदम के बारे में नहीं बता पाएंगे. मौजूदा प्रोग्राम के मुताबिक भारतीय टीम को मुंबई में न्यूजीलैंड के खिलाफ सीरीज खत्म होने के बाद 8 या 9 दिसंबर को रवाना होना है.’

नए कोरोना वेरिएंट से खतरा

बीसीसीआई भले ही मौजूदा वक्त में दक्षिण अफ्रीकी टूर को लेकर कुछ नहीं कहना चाहता है लेकिन अगले कुछ दिनों में वह सीएसए (CSA) से नए प्रकार बी.1.1.529 के बारे में बात कर सकता है जिसने पूरी दुनिया को सतर्क कर दिया है.

नीदरलैंड ने रद्द किया दक्षिण अफ्रीकी दौरा

कोरोना वायरस के नए वेरिएंट (Coronavirus New Variant) के सामने आने के बाद नीदरलैंड क्रिकेट टीम (Netherlands Cricket Team) ने बड़ा फैसला दिया है. डच बोर्ड ने दक्षिण अफ्रीका का दौरा (South Africa Tour) रद्द कर दिया. इसके साथ ही अपनी टीम को टूर से वापस घर भेजने का फैसला किया है. अब क्या इस खबर का असर टीम इंडिया के साउथ अफ्रीका दौरे पर भी पड़ेगा, ये बड़ा सवाल है.

चार्टर्ड प्लेन से भजेंगे खिलाड़ी?

बीसीसीआई अधिकारी ने संकेत दिए कि भले ही खिलाड़ियों को मुंबई से जोहानिसबर्ग चार्टर्ड प्लेन से भेजा जाएगा लेकिन बदले हुए हालात में उन्हें 3 या 4 दिन के कड़े क्वारंटीन में रहना पड़ सकता है.

कड़े क्वारंटीन से गुजरना होगा

बीसीसीआई अधिकारी ने कहा, ‘पहले कड़े क्वारंटीन का कोई प्रावधान नहीं था लेकिन निश्चित तौर पर खिलाड़ी बायो बबल (Bio Bubble) में रहेंगे. अब दक्षिण अफ्रीका में मामले बढ़ रहे हैं और यूरोपीय यूनियन ने भी अस्थायी तौर पर वहां की उड़ानें रद्द कर दी हैं, हमें इन पहलुओं पर गौर करने की जरूरत है.’

दक्षिण अफ्रीका में है इंडिया ए टीम

इंडिया ए टीम अभी दक्षिण अफ्रीका के दौरे पर है. पीटीआई ने भारत ए टीम के साथ ब्लोमफोंटेन में प्रशासनिक अधिकारी से संपर्क किया. उन्होंने कहा, ‘हमें यहां पहुंचने पर कड़े क्वारंटीन से नहीं गुजरना पड़ा था क्योंकि हम चार्टर्ड प्लेन से आए थे और बायो बबल में रह रहे थे. नए मामले पाए जाने के बाद क्रिकेट दक्षिण अफ्रीका की मेडिकल टीम ने यहां हमारे प्रतिनिधियों के साथ बैठक की.’

‘फिक्र करने की जरूरत नहीं’

इस अधिकारी ने फोन पर कहा, ‘हमें कहा गया है कि चिंता की कोई बात नहीं है क्योंकि जहां मामले पाए गए हैं वो इलाका ब्लोमफोंटेन से काफी दूर है जहां हमें अपने अगले 2 मैच भी खेलने हैं.’ उन्होंने ये भी बताया कि शुक्रवार तक भारत ए टीम को बीसीसीआई से किसी तरह के निर्देश नहीं मिले थे.

भारत vs दक्षिण अफ्रीका 2021-22  पूरा शेड्यूल

पहला टेस्ट – वांडरर्स, जोहानिसबर्ग – 17 से 21 दिसंबर
दूसरा टेस्ट – सुपरस्पोर्ट पार्क, सेंचुरियन – 26 से 30 दिसंबर
तीसरा टेस्ट – वांडरर्स, जोहानिसबर्ग -3 से 7 जनवरी

पहला वनडे – बोलैंड पार्क, पार्ल – 11 जनवरी
दूसरा वनडे – न्यूलैंड्स, केपटाउन – 14 जनवरी
तीसरा वनडे – न्यूलैंड्स, केपटाउन – 16 जनवरी

पहला टी-20 – न्यूलैंड्स, केपटाउन – 19 जनवरी
दूसरा टी-20 – न्यूलैंड्स, केपटाउन – 21 जनवरी

तीसरा टी-20 – बोलैंड पार्क, पार्ल – 23 जनवरी
चौथा टी-20 – बोलैंड पार्क, पार्ल – 26 जनवरी

IND vs NZ: 4 साल बाद वापसी पर इस भारतीय जांबाज ने निकाली कसर, अगले 2 मैचों में खेलना तय!

नई दिल्ली: भारत-न्यूजीलैंड टी-20 सीरीज (India vs New Zealand T20 Series) के पहले मुकाबले में टीम इंडिया ने कीवी आर्मी को 5 विकेट से पटखनी दी. इसके साथ ही रोहित की सेना ने सीरीज में 1-0 की अहम लीड हासिल की.

अश्विन ने जीत मे निभाया अहम रोल

इस मैच भले सूर्यकुमार यादव (Suryakumar Yadav) और रोहित शर्मा (Rohit Sharma ) को जीत का हीरो बताया गया, लेकिन सीनियर स्पिनर रविचंद्रन अश्विन (Ravichandran Ashwin) के योगदान को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता.