Rishi Sunak bid for next British PM: इंफोसिस के सह संस्थापक नारायण मूर्ति के दामाद और 42 वर्षीय ब्रिटिश सांसद सुनक 10 डाउनिंग स्ट्रीट में लंबे समय से जॉनसन के संभावित उत्तराधिकारी के तौर पर देखे जाते रहे हैं और समझा जाता है कि उन्होंने अपनी दावेदारी पेश करने के लिए कंजर्वेटिव पार्टी के एक बड़े हिस्से का समर्थन जुटा लिया है.

Rishi Sunak launches bid for next British PM: ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन के इस्तीफे के बाद देश का अगला पीएम कौन बनेगा, इस सवाल के जवाब पर पूरी दुनिया की नजर हैं. लेकिन प्रधानमंत्री पद की रेस में एक भारतीय शख्स को सबसे आगे माना जा रहा है. अब ब्रिटेन के पूर्व वित्त मंत्री ऋषि सुनक ने कंजर्वेटिव पार्टी के नये नेता और देश के अगले प्रधानमंत्री के तौर पर बोरिस जॉनसन की जगह लेने के लिए शुक्रवार को औपचारिक रूप से दावेदारी पेश भी कर दी है.

सुनक ने PM पद के लिए पेश की दावेदारी

इस हफ्ते की शुरूआत में जॉनसन की कैबिनेट से इस्तीफा दे चुके ब्रिटिश भारतीय मंत्री सर्वोच्च पद आसीन ऐसे टोरी नेता थे जिनकी ओर से नेतृत्व की दौड़ में दावेदारी पेश किया जाना बाकी था. उन्होंने अपने प्रचार अभियान की शुरूआत करते हुए सोशल मीडिया पर एक वीडियो में कहा, ‘किसी को इस पल को पकड़ना होगा और सही फैसला लेना होगा.’

इंफोसिस के सह संस्थापक नारायण मूर्ति के दामाद और 42 वर्षीय ब्रिटिश सांसद सुनक 10 डाउनिंग स्ट्रीट में लंबे समय से जॉनसन के संभावित उत्तराधिकारी के तौर पर देखे जाते रहे हैं और समझा जाता है कि उन्होंने अपनी दावेदारी पेश करने के लिए कंजर्वेटिव पार्टी के एक बड़े हिस्से का समर्थन जुटा लिया है.

‘परिवार ही मेरे लिए सबकुछ’

पंजाब से ताल्लुक रखने वाले सुनक ने नारायण मूर्ति की बेटी अक्षता मूर्ति से शादी की है. दोनों की मुलाकात कैलिफोर्निया में पढ़ाई के दौरान हुई थी. अपने कैंपेन वीडियो में सुनक ने अपनी दादी की कहानी लोगों के साथ शेयर की है जिसमें वह बताते हैं कि कैसे वह इंग्लैंड आ गई थीं. साथ ही उन्होंने बताया कि दादी को यहां जॉब तो मिल गई थी लेकिन पैसे बचाने के लिए काफी मेहनत करनी पड़ी थी. उन्होंने अपने वीडियो में कहा कि परिवार ही उनके लिए सब कुछ है.

उन्होंने पिछले हफ्ते कहा था, ‘हमें यह सुनिश्चित करने की जरूरत है कि यह ब्रिटिश भारतीय कहानी का अंत नहीं है. हम और भी मुकाम हासिल कर सकते हैं और मैं भविष्य के बारे में सचमुच में उत्साहित हूं.’ उनसे पूछा गया था कि क्या वह ब्रिटेन के भारतीय मूल के प्रथम प्रधानमंत्री बनने जा रहे हैं, जिसके जवाब में उन्होंने यह कहा था.

प्रधानमंत्री पद की रेस में ये नाम

सुनक से पहले देश के परिवहन मंत्री ग्रांट सैप्स ने संकेत दिया कि वह भी प्रधानमंत्री पद की दौड़ में शामिल होंगे. इसके कुछ देर बाद ही संसद की विदेश मामलों की समिति के अध्यक्ष टॉम तुगेन्दाट ने भी प्रधानमंत्री पद को लेकर अपनी इच्छा जाहिर की. जॉनसन के गुरुवार को प्रधानमंत्री पद छोड़ने के ऐलान के बाद से अब तक इस पद के लिए 5 दावेदार सामने आ चुके हैं, जिनमें भारतीय मूल की सुएला ब्रेवरमैन, कंजर्वेटिव पार्टी के सांसद स्टीव बेकर, मंत्री ग्रांट सैप्स और टॉम का नाम शामिल है.

ब्रिटिश प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने कंजर्वेटिव पार्टी के नेता पद को छोड़ने की घोषणा की थी. उनकी इस घोषणा के बाद पार्टी के नए नेता का चुनाव होगा जो देश के प्रधानमंत्री का पद संभालेंगे. जॉनसन ने कहा कि जब तक पार्टी का नया नेता चुनने की प्रक्रिया पूरी नहीं हो जाती, वह 10 डाउनिंग स्ट्रीट के प्रभारी बने रहेंगे. कंजर्वेटिव पार्टी का सम्मेलन अक्टूबर में होना है और उस समय तक नए नेता के चुनाव की प्रक्रिया पूरी होनी है.

https://0abae73ad1381913d6506294b1454ffc.safeframe.googlesyndication.com/safeframe/1-0-38/html/container.html

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You missed