Russia-Ukraine War: यूक्रेनी राष्ट्रपति ने कहा, रूस कभी भी बातचीत के लिए तैयार नहीं हुआ और उसने जानबूझकर आक्रामक रुख अपनाया और वार्ता की प्रक्रिया को कमजोर किया. यूएन में दी अपनी स्पीच में मैंने शांति के फॉर्मूले पर बात की थी. हम अपने सहयोगियों के साथ काम करने के लिए तैयार हैं.

Ukraine-Russia War: यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोडिमिर जेलेंस्की ने पीएम मोदी की रूस से वार्ता करने की नसीहत को मानने से इनकार कर दिया है. जेलेंस्की ने बुधवार को कहा कि कीव रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से वार्ता नहीं करेगा. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को जेलेंस्की से टेलीफोन पर बातचीत की और इस बात पर जोर दिया था कि यूक्रेन संकट का कोई सैन्य समाधान नहीं हो सकता. पीएम मोदी ने यह भी कहा था कि एटमी प्लांट्स को खतरे में डालने के दूरगामी और विनाशकारी प्रभाव हो सकते हैं. 

‘भारत हर योगदान देने को तैयार

पीएमओ की ओर से जारी बयान के मुताबिक, पीएम मोदी ने जंग को जल्द खत्म करने और वार्ता-कूटनीति के रास्ते पर चलने की बात कही. उन्होंने यह भी कहा कि किसी भी तरह के शांति प्रयासों में योगदान देने के लिए भारत तैयार है. पिछले दिनों व्लादिमीर पुतिन ने यूक्रेन के लुहांस्क, दोनेत्सक, खेरसॉन और जापोरिज्जिया क्षेत्र का रूस में विलय का दावा किया था. इसी को लेकर जेलेंस्की ने कहा कि यूक्रेन पर कब्जा करने के लिए जो भी फैसले लिए जा रहे हैं, वे अवैध हैं और इससे सच्चाई बदल नहीं जाएगी. जेलेंस्की ने जोर दिया कि ऐसी स्थिति में यूक्रेन व्लादिमीर पुतिन के साथ कोई समझौता नहीं करेगा लेकिन यूक्रेन हमेशा बातचीत के जरिए शांतिपूर्ण समझौते के पक्ष में रहा है.

‘रूस बातचीत को राजी नहीं हुआ’

यूक्रेनी राष्ट्रपति ने कहा, ‘रूस कभी भी बातचीत के लिए तैयार नहीं हुआ और उसने जानबूझकर आक्रामक रुख अपनाया और वार्ता की प्रक्रिया को कमजोर किया. यूएन में दी अपनी स्पीच में मैंने शांति के फॉर्मूले पर बात की थी. हम अपने सहयोगियों के साथ काम करने के लिए तैयार हैं.’ इस बीच जेलेंस्की ने यूक्रेन की संप्रभुत्ता और अखंडता को लेकर भारत के समर्थन के लिए पीएम मोदी को धन्यवाद दिया और उनके उस बयान को तवज्जो दी, जिसमें उन्होंने कहा था कि यह जंग का समय नहीं है.

जेलेंस्की ने पीएम मोदी से वार्ता के दौरान भारत-यूक्रेन की दोस्ती को और मजबूत करने पर जोर दिया. उन्होंने कहा कि भारत सरकार ने यूक्रेन को काफी मानवीय सहायता दी है. दोनों नेताओं के बीच ग्लोबल फूड सिक्योरिटी को लेकर भी बात हुई. जेलेंस्की ने जोर दिया कि यूक्रेन दुनिया की फूड सिक्योरिटी का गारंटर बना रहेगा.

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *