Sanjay Raut News: महाराष्ट्र के पात्रा चॉल मामले में प्रवर्तन निदेशालय ने बड़ी कार्रवाई की है. ईडी ने शिवसेना सांसद को हिरासत में ले लिया है और उन्हें दफ्तर ले जाकर पूछताछ की जा रही है.

Sanjay Raut detained: पात्रा चॉल जमीन घोटाले के मामले में प्रवर्तन निदेशालय ने लंबी कार्रवाई के बाद संजय राउत को हिरासत में ले लिया है. प्रवर्तन निदेशालय ने शिवसेना सांसद संजय राउत के आवास पर 9 घंटे से अधिक समय तक तलाशी लेने के बाद उन्हें हिरासत में लिया है. केंद्रीय एजेंसी की टीम संजय राउत को लेकर दफ्तर पहुंची है जहां उनसे पूछताछ चल रही है. ईडी दफ्तर पर पहुंचने के बाद संजय राउत ने ZEE News से बात करते हुए कहा कि झूठे आरोप झूठे सबूत दिखाकर कार्रवाई की जा रही है. इस कार्रवाई का मेरे ऊपर कोई असर नहीं होगा. मैं झुकूंगा नहीं, ना ही महाराष्ट्र को कमजोर होने दूंगा. मुझे गिरफ्तार करने की साजिश रची जा रही है, मैं गिरफ्तारी देने जा रहा हूं.

संजय राउत की मुश्किलें बढ़ीं

शिवसेना सांसद संजय राउत को ईडी दफ्तर ले जाने से पहले उनके आवास के बाहर सुरक्षा बढ़ा दी गई थी. प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने शिवसेना सांसद के घर पर 9 घंटे से अधिक समय तक पूछताछ करती रही. बता दें कि रविवार को शिवसेना सांसद संजय राउत के लिए मुश्किलें तब बढ़ गईं, जब पात्रा चॉल भूमि घोटाला मामले में उनके ‘मैत्री’ आवास पर ईडी ने बड़े स्तर पर छापेमारी की.

राउत के घर पर बड़ी छापेमारी

ईडी के 12 अधिकारियों की एक टीम ने राउत के मुंबई स्थित घर पर छापा मारा. इससे पहले शिवसेना नेता ने एजेंसी द्वारा जारी दो समन का जवाब नहीं दिया था. बाद में उनके दादर फ्लैट पर छापेमारी की गई, जिसे कथित तौर पर उनकी पत्नी वर्षा राउत ने धनशोधन के जरिए खरीदा था.

किस मामले में हुई कार्रवाई?

राउत को मुंबई के एक ‘चॉल’ के पुनर्विकास और उनकी पत्नी एवं अन्य ‘सहयोगियों’ की संलिप्तता वाले लेन-देन में कथित अनियमितताओं से जुड़े धनशोधन के एक मामले में पूछताछ के लिए ईडी ने तलब किया था. राउत इस मामले में अपना बयान दर्ज करवाने के लिए एक जुलाई को मुंबई में एजेंसी के समक्ष पेश हुए थे. इसके बाद एजेंसी ने उन्हें दो बार तलब किया था, लेकिन मौजूद संसद सत्र में व्यस्त रहने का हवाला देते हुए पेश नहीं हुए.

‘शिवसेना का साथ नहीं छोडूंगा’

इस बीच, राज्यसभा सदस्य राउत ने कुछ भी गलत करने से इनकार किया है और आरोप लगाया है कि उन्हें राजनीतिक प्रतिशोध लेने के लिए निशाना बनाया जा रहा है. उन्होंने ईडी की कार्रवाई के कुछ ही देर बाद ट्वीट किया, ‘मैं दिवंगत बालासाहेब ठाकरे की सौगंध खाता हूं कि मेरा किसी घोटाले से कोई संबंध नहीं है.’ उन्होंने लिखा, ‘मैं मर जाऊंगा, लेकिन शिवसेना का साथ नहीं छोडूंगा.’

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.