Loudspeaker ban in UP: लाउडस्पीकर को लेकर उपजे विवाद के बाद उत्तर प्रदेश में योगी सरकार ने इसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की और हजारों जगहों से नियमों के उल्लंघन के बाद लाउडस्पीकर हटाए जा चुके हैं. अब एक बार फिर सीएम योगी ने अधिकारियों को सख्त निर्देश देते हुए कहा है कि किसी भी धार्मिक स्थल से लाउडस्पीकर की आवाज परिसर के बाहर नहीं आनी चाहिए.

दोबारा न लगें उतारे गए लाउडस्पीकर्स

मुख्यमंत्री ने कहा कि नियमों के उल्लंघन के बाद जिन लाउडस्पीकर्स को हटाया गया है वह फिर से नहीं लगने चाहिए. अगर दोबारा से उतारे हुए लाउडस्पीकर लगते हैं तो इलाके के थाने के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी. साथ ही उन्होंने अधिकारियों से कहा कि ऐसे लाउडस्पीकर स्कूलों में लगाए जाएं.

योगी आदित्यनाथ ने हर जिले के पुलिस कप्तान और जिलाधिकारी को निर्देश देते हुए कहा कि थानों की जवाबदेही तय होनी चाहिए और नियमों के उल्लंघन पर सख्त कार्रवाई होनी चाहिए. यूपी में बड़े स्तर पर अवैध लाउडस्पीकर्स के खिलाफ कार्रवाई की गई है और धार्मिक स्थलों से बड़ी संख्या में लाउडस्पीकर्स उतारे गए हैं. साथ ही सरकार के आदेश के बाद कई जगहों पर लाउडस्पीकर्स की आवाज को धीमा भी किया गया है.

रोड सेफ्टी को लेकर भी निर्देश

इसके अलावा सीएम योगी ने रोड सेफ्टी को लेकर भी अधिकारियों को निर्देश दिए हैं. उन्होंने कहा कि बेसिक और माध्यमिक स्कूलों में बच्चों को यातायात नियमों के पालन के लिए विशेष प्रयास किए जाने की जरूरत है. ट्रैफिक नियमों के पालन का संस्कार बच्चों को शुरुआत से ही दी जानी चाहिए. यातायात नियमों के संबंध में प्रधानाचार्यों/विश्वविद्यालय के प्रतिनिधियों का प्रशिक्षण कराया जाए. अगले दो दिनों के भीतर अभिभावकों के साथ भी विद्यालयों में बैठक होनी चाहिए.

अधिकारियों को निर्देश देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि सड़कों पर अतिक्रमण की समस्या को खत्म करना होगा. पटरी व्यवसायियों के स्थान का चिन्हांकन करते हुए यह सुनिश्चित करें कि कोई तय स्थान के बाहर दुकान न लगाए. व्यापारियों से संवाद बनाकर यह सुनिश्चित कराएं कि हर दुकान अपनी सीमा के भीतर ही हो. शहरों में पार्किंग की व्यवस्था को और मजबूत करना होगा. स्थानीय प्रशासन की जिम्मेदारी है कि अवैध टैक्सी स्टैंड की समस्या का स्थायी समाधान करे और अन्यथा उनकी जवाबदेही तय की जाएगी.

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You missed