China Moon Map: चीन ने चांद का नया जियोलॉजिकल मैप जारी किया है. चीन का कहना है कि अमेरिका की ओर से साल 2020 में जारी की गई चांद की सतह की तस्वीरों से ज्यादा उसके नक्शे में जानकारी है. चीन की सरकारी मीडिया के मुताबिक,  चीन के नए नक्शे में खड्ढे और ढांचे नजर आ रहे हैं, जो पहले कभी नजर नहीं आए. इससे चांद पर आगे के रिसर्च में मदद मिलेगी. 

China Moon Map: चीन ने चांद का नया जियोलॉजिकल मैप जारी किया है. चीन का कहना है कि अमेरिका की ओर से साल 2020 में जारी की गई चांद की सतह की तस्वीरों से ज्यादा उसके नक्शे में जानकारी है. चीन की सरकारी मीडिया के मुताबिक,  चीन के नए नक्शे में खड्ढे और ढांचे नजर आ रहे हैं, जो पहले कभी सामने नहीं आए. इससे चांद पर आगे रिसर्च में मदद मिलेगी. 

पहली बार अमेरिका ने जारी किया था नक्शा

अमेरिका के जियोलॉजिकल सर्वे (USGS) एस्ट्रोजियोलॉजी साइंस सेंटर ने नासा और लूनर प्लैनेटरी इंस्टिट्यूट ने साल 2020 में पहली बार चांद और उसकी सतह का नक्शा जारी किया था. उस डिजिटल नक्शे ने चंद्रमा की जियोलॉजी को दिखाया था, जिसे साइंस सेंटर ने 1: 5000000 के पैमाने के तौर पर बताया था. 

हालांकि चीनी वैज्ञानिकों का कहना है कि उन्होंने अमेरिका से भी बेहतर काम किया है. चीन के सरकारी ब्रॉडकास्टर सीजीटीएन ने बुधवार को कहा, ‘चीन ने 1:2500000 के स्केल पर चांद का नया जियोलॉजिक नक्शा जारी किया है, जो आज तक का सबसे विस्तृत नक्शा है.’

चीन के नक्शे की खासियत

चीन के इस नक्शे में 12341 बड़े खड्डे, 81 बेसिन, 17  तरह की चट्टानें और 14 तरह के ढांचे शामिल हैं. इससे चीन की जियोलॉजी और उसके विकास के बारे में जानकारी मिलेगी.  नया नक्शे सबसे पहले चीन के साइंस जर्नल में एक हफ्ते पहले छपा. रिपोर्ट में आगे कहा गया, ‘चांद पर वैज्ञानिक अनुसंधान, एक्सप्लोरेशन और लैंडिंग साइट के चुनाव में एक बड़ा योगदान देने की उम्मीद है.’

चीन के विभिन्न रिसर्च संस्थानों के वैज्ञानिकों ने हाई रेजॉल्यूशन टोपोग्राफिक मैप जारी किया है, जो चीन के लूनर एक्सप्लोरेशन चेंज प्रोजेक्ट और अंतराष्ट्रीय संस्थाओं के डाटा व रिसर्च में मिली जानकारी पर आधारित है. चाइनीज अकैडमी ऑफ साइंसेज के तहत आने वाले इंस्टिट्यूट ऑफ जियोकैमिस्ट्री ने इस प्रोजेक्ट की अगुआई की थी. पिछले कुछ दशकों में चीन ने कई सैटेलाइट्स भेजे हैं. जनवरी 2019 में चीन ने चांग-ई-4 चांद पर भेजा था. यह चांद के उस हिस्से पर उतरा था, जो धरती से कभी दिखाई नहीं दिया. दिसंबर 2020 में चीन का चांग-ई-5 मिशन चट्टान और चंद्रमा की मिट्टी के एक कार्गो के साथ धरती पर लौटा.

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.