Hindu Muslim clash after Ind-Pak Match: ब्रिटेन के लीसेस्टर में भारत पाकिस्तान मैच को लेकर मचा विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है. हिंदू मुस्लिम समुदायों के बीच हुए विवाद के बाद पुलिस ने करीब 27 लोगों को गिरफ्तार किया था. इसी बीच अब ब्रिटेन के मुस्लिम काउंसिल का बयान सामने आया है. जिसमें काउंसिल ने विवादित बयान देते हुए भारत पर इस विवाद का ठीकरा फोड़ दिया है.

दरसअल, मुस्लिम काउंसिल ऑफ बिटेन ने अपने एक आधिकारिक बयान में कहा कि इसके लिए भारत का दक्षिणपंथी समूह जिम्मेदार है. बयान में मुस्लिम काउंसिल के सेक्रेटरी जनरल जारा मोहम्मद के हवाले से कहा गया कि भारत के दक्षिणपंथी समूहों की ओर से जो एजेंडा फैलाया गया है, वह अब ब्रिटेन की सड़कों पर नजर आ रहा है. इसको लेकर लोग पहले भी चिंता जता चुके हैं. इस एजेंडे से मुस्लिमों, सिखों और अन्य अल्पसंख्यकों को निशाना बनाया गया है, जिस वजह से लीस्टर में दो समुदायों के बीच झगड़ा भड़क गया है.

धार्मिक स्थल पर हमले की निंदा
बयान में यह भी कहा गया है कि हम नहीं मानते हैं कि ये लोग उस बड़े हिंदू समुदाय के विचारों को दर्शा रहे हैं, जिनके ब्रिटेन में ना सिर्फ मुस्लिम बल्कि सिख समेत अन्य लोगों के साथ भी अच्छे रिश्ते हैं और लीस्टर इसका एक ऐतिहासिक उदाहरण रहा है. आगे कहा गया कि हम किसी भी धार्मिक स्थल पर हमले की निंदा करते हैं, क्योंकि हमारे समाज में नफरत की कोई जगह नहीं है.

‘नफरत की वजह से नहीं बंटना’
फिलहाल सभी समुदायों को लीस्टर में शांति स्थापित करने के बातचीत के लिए बुलाया गया है. इनमें पुलिस और राजनेता भी शामिल हैं, जिससे वे स्थानीय मुद्दों को सुनें और हालात को ठीक करने पर काम करें. बयान में आगे कहा गया कि जैसे सालों से हम हमेशा एक रहे हैं, इसी तरह आगे भी रहना है और बाहर से आ रही नफरत की वजह से आपस में नहीं बंटना है.

हिंसा के आरोप में 27 लोग गिरफ्तार
बता दें कि रविवार को ब्रिटेन के लीसेस्टर में अचानक दो समुदायों की भीड़ इकट्ठा हो गई और लोग प्रदर्शन करने लगे. पुलिस ने जब इन्हें रोका तो पुलिस पर कांच की बोतलें फेंकी गईं. हाथों में लाठी- डंडे लिए भीड़ ने संपत्ति को भी नुकसान पहुंचाया. कई लोगों ने काले रंग का मास्क पहना हुआ था. उनके पूरे चेहरे ढके हुए थे और उन्होंने हुड लगा रखे थे. पुलिस के मुताबिक हिंसा के आरोप में 27 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है.

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.