LG vs Kejriwal government:  AAP ने उपराज्यपाल वीके सक्सेना पर 2016 में खादी ग्रामोद्योग आयोग (केवीआईसी) के अध्यक्ष के रूप में अपने कार्यकाल में भ्रष्टाचार का आरोप लगाया था और इस मामले में सीबीआई जांच की मांग की थी.

Delhi LG vs Kejriwal: दिल्ली में आम आदमी पार्टी और उपराज्यपाल के बीच खुले तौर आरोप-प्रत्यारोप का दौर चल रहा है. दिल्ली के LG वीके सक्सेना ने AAP के भ्रष्टाचार के आरोपों पर चुप्पी तोड़ते हुए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर पलटवार किया है. उन्होंने कहा कि केजरीवाल हताशा में मुद्दे से भटकाने वाले तरीके अपना रहे हैं और झूठे आरोप लगा रहे हैं. सत्ताधारी पार्टी ने उपराज्यपाल पर नोटबंदी के दौरान अपने कालेधन को व्हाइट करने का आरोप लगाया था और दावा किया कि एलजी ने खादी ग्रामोद्योग आयोग का अध्यक्ष रहने के दौरान 1400 करोड़ का घोटाला किया था. अब इन्हीं आरोपों पर वीके सक्सेना ने जवाब दिया है.

उपराज्यपाल ने CM पर साधा निशाना

उपराज्यपाल वीके सक्सेना की ओर से ही अरविंद केजरीवाल सरकार की आबकारी नीति 2021-22 के रेगुलेशन में गड़बड़ी के लिए सीबीआई जांच की सिफारिश की थी जिसके बाद दोनों के बीच रिश्तों में तनाव बढ़ गया है. इसके बाद AAP ने वीके सक्सेना पर 2016 में खादी और ग्रामोद्योग आयोग (KVIC) के अध्यक्ष के रूप में अपने कार्यकाल में भ्रष्टाचार का आरोप लगाया था और इस मामले में सीबीआई जांच की मांग की थी. भ्रष्टाचार के आरोपों पर चुप्पी तोड़ते हुए उपराज्यपाल ने ट्वीट किया कि उन्होंने केजरीवाल सरकार की अब वापस ली जा चुकी आबकारी नीति में ‘गंभीर विसंगतियों’ समेत अनेक मुद्दे उठाये थे, लेकिन दुर्भाग्य से उन्हें जो जवाब मिला वह धोखे के रूप में था और उन पर निजी हमले की तरह था.

इससे पहले केजरीवाल ने AAP नेताओं के खिलाफ कानूनी कार्रवाई शुरू करने के उपराज्यपाल के फैसले पर एक सवाल के जवाब में कहा था, ‘मेरा मानना है कि अगर हम सार्वजनिक जीवन में आये हैं तो हमें किसी भी जांच के लिए तैयार रहना चाहिए. मनीष सिसोदिया ने इसका स्वागत किया. कानूनी कार्रवाई एक तरह से डराने धमकाने के समान है और हम देखेंगे कि क्या कानूनी कार्रवाई होती है.’

आगे भी लग सकते हैं झूठे आरोप

उपराज्यपाल ने ट्वीट किया, ‘मैंने सुशासन की, भ्रष्टाचार को कतई बर्दाश्त नहीं करने की और दिल्ली की जनता के लिए बेहतर सेवा की बात कही थी. लेकिन दुर्भाग्य से मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल जी ने हताशा में भटकाने वाले तरीके अपनाए और झूठे आरोप लगाए.’ उन्होंने ट्विटर पर बयान में कहा कि अगर आने वाले दिनों में भी उन पर तथा उनके परिवार के लोगों पर इस तरह के और बेबुनियाद निजी हमले होते हैं तो उन्हें हैरानी नहीं होगी. सक्सेना ने कहा, ‘केजरीवाल को ता होना चाहिए कि मैं किसी भी हालात में अपने संवैधानिक कर्तव्यों से नहीं डिगूंगा. दिल्ली की जनता के जीवन स्तर में सुधार की मेरी प्रतिबद्धता अटल है.’

वीके सक्सेना ने अपने खिलाफ लगे आरोपों को झूठा और मानहानिकारक बताते हुए कुछ आप नेताओं के खिलाफ कानूनी कार्रवाई शुरू करने का फैसला किया है. यह जानकारी बुधवार को उनके कार्यालय के अधिकारियों ने दी है. वीके सक्सेना ने एक अन्य ट्वीट में लिखा कि जन प्रतिनिधि के रूप में मुख्यमंत्री को जनता को 17 लाख रुपये को 1,400 करोड़ रुपये में बदलने की कला के बारे में बताना चाहिए. उनके ट्वीट के मुताबिक सीबीआई ने खादी भवन दिल्ली के दो कर्मचारियों की ओर से  17 लाख रुपये के नोटों के बदलने के बारे में पता लगाया था जबकि आप ने 1400 करोड़ रुपये के घोटाले का आरोप लगाया है.

AAP विधायक दुर्गेश पाठक ने इसी सप्ताह दिल्ली विधानसभा में सक्सेना पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए दावा किया था कि उन्होंने 2016 में खादी और ग्रामोद्योग आयोग (केवीआईसी) के अध्यक्ष के रूप में अपने कार्यकाल में चलन से बाहर हो चुके भारतीय मुद्रा के नोटों को बदलवाया था. AAP ने इस मामले में 1,400 करोड़ रुपये का घोटाला होने का आरोप लगाते हुए सक्सेना के खिलाफ सीबीआई जांच की मांग की थी.

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You missed