Government Hospital: गर्भवती महिला ‘किफोस्कोलियोसिस’ रोग से पीड़ित है. इस रोग के कारण रीढ़ की हड्डी टेढ़ी हो जाती है.डॉक्टरों के मुताबिक कि रोग के कारण गर्भाशय में शिशु के लिए पर्याप्त जगह नहीं थी और महिला के रक्त में प्लेटलेट घट कर 78,000 तक रह गये थे. 

Maharashtra News: अगर आपने फिल्म ‘थ्री इडियट’ देखी है तो आपको फिल्म का वह सीन याद होगा जिसमें ‘रैंचों’ यानि आमिर खान और उसके दोस्तों ने एक वैक्यूम क्लीनर की मदद से एक गर्भवती महिला की डिलीवरी करवाई थी. इससे मिलता जुलता एक मामला महाराष्ट्र में जालना जिले में देखने को मिला जहां के एक सरकारी अस्पताल के डॉक्टरों ने रीढ़ की हड्डी की बीमारी से पीड़ित एक महिला के प्रसव की प्रक्रिया ‘वैक्यूम पंप’ की मदद से पूरी की. अस्पताल के एक चिकित्सक ने बताया कि यह प्रक्रिया गुरुवार को गवर्नमेंट वुमंस हॉस्पिटल में की गई थी.

डॉक्टरों बताया कि घनसावंगी तहसील स्थित रानी उंचेगांव गांव की रहने वाली गोदावरी सुंदरलाल (21) महिला ‘किफोस्कोलियोसिस’ रोग से पीड़ित है. इस रोग के कारण रीढ़ की हड्डी टेढ़ी हो जाती है.

घट गए महिला के रक्त में प्लेटलेट
डॉक्टरों के मुताबिक कि रोग के कारण गर्भाशय में शिशु के लिए पर्याप्त जगह नहीं थी और महिला के रक्त में प्लेटलेट घट कर 78,000 तक रह गये थे जिससे महिला का ऑपरेशन करना मुश्किल था.

महिला और नवजात दोनों की हालत स्थिर
अस्पताल के अधीक्षक डॉ आर. एस. पाटिल ने बताया, ‘महिला की स्थिति को ध्यान में रखते हुए, हमने वैक्यूम पंप की सहायता से प्रसव प्रक्रिया करने का फैसला किया. चिकित्सकों सहित कम से कम 17 चिकित्साकर्मियों को इस कार्य में लगाया गया था. दो घंटे की कोशिश के बाद, महिला ने एक शिशु को जन्म दिया.’’ उन्होंने बताया कि महिला और नवजात दोनों की हालत स्थिर है.

पाटिल ने बताया कि जब प्रसव प्रक्रिया में रुकावट आती है और प्रसव जल्द कराना जरूरी हो जाता है तब इस प्रक्रिया की मदद ली जाती है.

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.