Alien Fish: आर्कटिक आइसबर्ग में पाई जाने वाली मछलियों की एक नई प्रजाति ने शोधकर्ताओं को दंग कर दिया है. इन मछलियों की आंखें चमकीली हैं.

Alien Fish Pics: आर्कटिक आइसबर्ग में पाई जाने वाली मछलियों की एक नई प्रजाति ने शोधकर्ताओं को दंग कर दिया है. इन मछलियों की आंखें चमकीली हैं. वैज्ञानिकों ने बताया कि इन मछलियों के खून में मौजूद एंटी-फ्रीज प्रोटीन की वजह से उनका रंग चमकीला हरा है. अमेरिकन म्यूजियम ऑफ नेचुरल हिस्ट्री के शोधकर्ता और सिटी यूनिवर्सिटी ऑफ न्यूयॉर्क के बारुच कॉलेज में जीव विज्ञान के प्रोफेसर डेविड ग्रुबर ने इन मछलियों पर हुई स्टडी का नेतृत्व किया.

चमकीली आंखों वाली मछली

स्नेलफ़िश आइसबर्ग के बीच दरारों में रहने वाली मछलियों की कुछ प्रजातियों में से एक थीं. यह आश्चर्य की बात है कि इतनी छोटी मछली ठंडे वातावरण में रह सकती है. ग्रुबर ने कहा कि एंटीफ्रीज प्रोटीन छोटे बर्फ क्रिस्टल की सतह पर चिपकते हैं और धीमे होते हैं या उन्हें बड़े और अधिक खतरनाक, क्रिस्टल में बढ़ने से रोकते हैं.

क्यों चमकती हैं इन मछलियों की आंखें?

उन्होंने बताया कि उत्तर और दक्षिण दोनों ध्रुवों की मछलियों ने इन प्रोटीनों को विकसित किया है. ग्रीनलैंड में हुए इस रिसर्च के बाद साफ हो गया है कि  समुद्री जीवों में विकासवादी परिवर्तन हो रहे हैं. चमक को एक विशेषता माना जाता है जिसे प्रजातियों द्वारा आर्कटिक क्षेत्र की कठोर परिस्थितियों में शरीर के तापमान को बनाए रखने के लिए विकसित किया गया.

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You missed