Monsoon 2022: दक्षिण पश्चिमी मॉनसून दो दिन की देरी से शनिवार को महाराष्ट्र पहुंचा. भारत मौसम विज्ञान विभाग के एक अधिकारी ने यह जानकारी दी, कोंकण में मॉनसून आम तौर पर नौ जून तक पहुंचता है.

Monsoon 2022 reached Mumbai: मुंबईवासियों को तपती गर्मी से आज शनिवार को राहत मिली है. मुंबई और महाराष्ट्र के कई इलाकों में मॉनसून ने दस्तक दे दी है. शनिवार को मुंबई में कई जगहों पर भारी बारिश हुई. तेज हवा के चलते पेड़ उखड़ गए और कई जगहों पर ट्रैफिक जाम हो गया. मौसम विभाग ने बताया कि महाराष्ट्र में दक्षिण-पश्चिम मॉनसून दो दिन की देरी से पहुंचा है. आईएमडी ने कहा कि 11 जून को मॉनसून दहानू, मुंबई, ठाणे, रायगढ़, मध्य महाराष्ट्र के कुछ हिस्सों में पुणे और कर्नाटक के गडग तक पहुंच गया.

10 जून को सुबह 8 बजे से 11 जून को सुबह 8 बजे तक मध्य मुंबई में औसत बारिश 25.56 मिमी दर्ज की गई, इस बीच, पूर्वी और पश्चिमी उपनगरों में क्रमशः 21.64 मिमी और 34.18 मिमी की औसत बारिश दर्ज की गई. आईएमडी के पूर्वानुमान के अनुसार मुंबई सहित महाराष्ट्र के कुछ हिस्सों में भारी बारिश जारी रहने की संभावना है.

IMD ने पहले ही दे दी थी जानकारी

मुंबई में झमाझम बारिश

आईएमडी ने 10 बजे के पूर्वानुमान में कहा था कि अगले 3-4 घंटों के दौरान ठाणे, रायगढ़, पालघर, रत्नागिरी, सिंधुदुर्ग, मुंबई के जिलों में अलग-अलग स्थानों पर 30-40 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चलने वाली तेज हवाओं और गरज के साथ मध्यम से तीव्र बारिश होने की संभावना है. भारत मौसम विज्ञान विभाग ने शुक्रवार (10 जून, 2022) को कहा कि उत्तर-पश्चिम और मध्य भारत में चल रही हीटवेव कल थोड़ी कम हुई और अगले सप्ताह तक अधिकतम तापमान में दो से तीन डिग्री की गिरावट आने की संभावना है. उत्तर पश्चिम और मध्य भारत 2 जून से लू की चपेट में है. आईएमडी के वरिष्ठ वैज्ञानिक आर के जेनामणि ने कहा कि अप्रैल-अंत और मई में दर्ज की गई तुलना में चल रही हीटवेव स्पेल कम तीव्र है, लेकिन प्रभाव का क्षेत्र लगभग बराबर है.

यहां अभी सताती रहेगी गर्मी

हिमाचल प्रदेश, राजस्थान, मध्य प्रदेश, हरियाणा, दिल्ली, झारखंड, पंजाब और उत्तर प्रदेश के कुछ हिस्सों में दिन के दौरान लू की स्थिति बनी रही और अधिकतम तापमान 46.2 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया. इन राज्यों के 25 कस्बों और शहरों में अधिकतम तापमान 44 डिग्री सेल्सियस से ऊपर दर्ज किया गया, जो गुरुवार को 32 और बुधवार को 42 था. मौसम कार्यालय ने यह भी कहा कि दिल्ली-एनसीआर और उत्तर पश्चिम भारत के अन्य हिस्सों में पारा सप्ताह के अंत में कुछ डिग्री नीचे आ जाएगा लेकिन 15 जून तक कोई बड़ी राहत की संभावना नहीं है.

दिल्ली मौसम अपडेट

मौसम विभाग ने अगले 48 दिनों के लिए उत्तर पश्चिम और मध्य भारत में अधिकतम तापमान में कोई महत्वपूर्ण बदलाव की संभावना नहीं जताई है. आईएमडी ने अपने दैनिक बुलेटिन में कहा कि अगले 48 घंटों के दौरान उत्तर-पश्चिम और मध्य भारत में अधिकतम तापमान में कोई महत्वपूर्ण बदलाव की संभावना नहीं है और इसके बाद अधिकतम तापमान में 2-3 डिग्री सेल्सियस की गिरावट आ सकती है. आईएमडी ने कहा कि राष्ट्रीय राजधानी में शनिवार को गरज और बिजली गिरने की संभावना के साथ आंशिक रूप से बादल छाए रहने की संभावना है. न्यूनतम और अधिकतम तापमान क्रमश: 30 डिग्री सेल्सियस और 43 डिग्री सेल्सियस रहने की संभावना है.

12 जून से प्री-मानसून गतिविधि

आईएमडी ने कहा कि 12 जून से पूर्वी मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और ओडिशा में प्री-मानसून गतिविधि देखी जा सकती है. लेकिन उत्तरी राजस्थान, पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, उत्तर प्रदेश और उत्तरी मध्य प्रदेश में 15 जून तक सामान्य से अधिक तापमान बना रहेगा. 15 जून तक तापमान 40 डिग्री सेल्सियस और 43 डिग्री सेल्सियस के बीच रहेगा. दिल्ली-एनसीआर सहित उत्तर पश्चिम भारत के कुछ हिस्सों में 11-12 जून को थोड़ी राहत मिल सकती है. सप्ताह के अंत में बादल छाए रहेंगे लेकिन बारिश की संभावना नहीं है. 16 जून के बाद से गरज के साथ बारिश हो सकती है, जिससे गर्मी से काफी राहत मिलने की उम्मीद है.

दिल्ली में कब होगी बारिश

मौसम विभाग के मुताबिक मानसून की गति अच्छी है. दिल्ली में मॉनसून पहुंचने की आधिकारिक तिथि 27 जून है. इस साल भी दिल्ली में मॉनसून इस महीने के अंत में आने की पूरी संभावना है. इसके 16 से 22 जून के बीच उत्तर प्रदेश पहुंचने की उम्मीद जताई गई है. बता दें कि मॉनसून केरल तट पर 29 मई को पहुंचा था और 31 मई से 7 जून के बीच यह दक्षिण व मध्य अरब सागर, केरल, कर्नाटक व तमिलनाडु के कुछ हिस्सों और पूरे पूर्वोत्तर में सक्रिय हो गया.

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.