Presidential election 2022: टीएमसी सुप्रीमो ममता बनर्जी ने कहा कि अगर बीजेपीने राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार द्रोपदी मुर्मू को चुनाव मैदान में उतारने से पहले विपक्ष के साथ चर्चा की होती तो विपक्षी दल उनका समर्थन करने पर विचार कर सकते थे. 

Presidential election 2022: राष्ट्रपति चुनाव की तारीख अब नजदीक आ रही है और दोनों ही खेमों के प्रत्याशी प्रचार में जुट गए हैं. इस बीच एनडीए की ओर से राष्ट्रपति उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू को लेकर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बड़ा बयान दिया है. टीएमसी सुप्रीमो ने कहा कि राष्ट्रपति चुनाव में द्रौपदी मुर्मू के जीतने की संभावना मजबूत है क्योंकि महाराष्ट्र में सत्ता परिवर्तन के बाद एनडीए की स्थिति और मजबूत हो गई है. 

द्रौपदी की जीत की ज्यादा संभावना

ममता बनर्जी ने कहा कि अगर बीजेपी ने राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार द्रोपदी मुर्मू को चुनाव मैदान में उतारने से पहले विपक्ष के साथ चर्चा की होती तो विपक्षी दल उनका समर्थन करने पर विचार कर सकते थे. उन्होंने कहा कि एक आम सहमति वाला उम्मीदवार हमेशा देश के लिए बेहतर होता है.

बंगाल की मुख्यमंत्री ने एक रथ यात्रा कार्यक्रम से अलग कहा, ‘भाजपा की राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू के पास महाराष्ट्र के घटनाक्रम के कारण राष्ट्रपति चुनाव जीतने की बेहतर संभावनाएं हैं. अगर बीजेपी ने मुर्मू के नाम का ऐलान करने से पहले हमारा सुझाव मांगा होता, तो हम भी व्यापक हितों को ध्यान में रखते हुए इस पर विचार कर सकते थे.’

बीजेपी पहले बताती तो…

तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख ने कहा कि वह विपक्षी दलों के फैसले के मुताबिक ही चलेंगी. हालांकि उन्होंने कहा कि आदिवासी समाज के प्रति उनके मन में सम्मान है लेकिन अगर बीजेपी पहले यह बता देती कि वह एक आदिवासी को उम्मीदवार बनाने जा रही है तो सभी विपक्षी दल एकमत होने पर विचार कर सकते थे. बीजेपी हमसे भी सुझाव मांग सकती थी लेकिन उसने ऐसा कुछ भी नहीं किया.

कांग्रेस और टीएमसी सहित गैर-बीजेपी पार्टियों ने पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा को राष्ट्रपति चुनाव के लिए संयुक्त उम्मीदवार के रूप में नामित किया है. वहीं एनडीए की ओर से द्रौपदी मुर्मू को उम्मीदवार बनाया गया है. संख्याबल के हिसाब से मुर्मू की जीत तय मानी जा रही है.

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.