Covid-19 Variant Research: वैज्ञानिकों ने कोरोना वायरस के सभी प्रमुख वेरिएंट की कमजोर नब्ज का पता लगा लिया है. रिसर्च में पता लगाया जा सकता है कि वायरस के कमजोर स्थान को एंटीबॉडी के जरिए निशाना बनाया जा सकता है.

Coronavirus Variant Treatment: कोरोना वायरस (Coronavirus) के वेरिएंट (Variant) से जुड़ी राहत की खबर है. भारतीय मूल के एक वैज्ञानिक के नेतृत्व में एक टीम ने हाल ही में सामने आए कोरोना वायरस के बीए.1 और बीए.2 सहित सार्स-कोव-2 के सभी प्रमुख वेरिएंट की ‘कमजोर नब्ज’ का पता लगा लिया है. रिसर्चर्स ने कहा कि कोरोना वायरस की इस कमजोरी को एंटीबॉडी के जरिए निशाना बनाया जा सकता है. इसके अलावा संभावित रूप से उस के इलाज का पता लगाया जा सकता है जो सभी वेरिएंट पर प्रभावी हो.

कैसे किया जा सकता है कि वेरिएंट का इलाज?

बता दें कि नेचर कम्युनिकेशंस मैगजीन में गुरुवार को छपी एक स्टडी में क्रायो-इलेक्ट्रॉन माइक्रोस्कोपी (क्रायो-ईएम) का इस्तेमाल वायरस के स्पाइक प्रोटीन की कमजोर जगह पर किया गया. वैज्ञानिकों ने कहा कि वायरस के खोजे गए कमजोर स्थान को एंटीबॉडी के जरिए निशाना बनाया जा सकता है जिससे इसके इलाज का मार्ग मिल सकता है जो सभी तरह के वेरिएंट पर कारगर हो. जान लें कि यह रिसर्च भारतीय मूल के वैज्ञानिक श्रीराम सुब्रमण्यम के नेतृत्व वाली टीम ने किया है.

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने जारी की ये रिपोर्ट

गौरतलब है कि विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की तरफ से हाल ही में जारी की गई एक रिपोर्ट के अनुसार, कोरोना वायरस से संक्रमण के नए मामलों की संख्या में पिछले हफ्ते लगभग एक चौथाई की कमी आई वहीं, मौतों की संख्या 6 प्रतिशत घट गई. लेकिन एशिया के कुछ हिस्सों में अभी भी यह अधिक है.

कोरोना से होने वाली मौतों में 12% की बढ़ोतरी

डब्ल्यूएचओ ने कहा कि पिछले हफ्ते कोरोना वायरस के 54 लाख नए मामले दर्ज किए गए जो उससे पिछले सप्ताह की तुलना में 24 प्रतिशत कम हैं. वहीं, अफ्रीका और यूरोप में मामलों में करीब 40 प्रतिशत और मध्य-पूर्व में एक तिहाई कमी आई है. इसके अलावा पश्चिमी प्रशांत में 31 प्रतिशत और दक्षिण पूर्व एशिया में कोरोना से होने वाली मौतों में 12 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है.

विश्व स्वास्थ्य संगठन के महानिदेशक टेड्रोस अदनोम घेब्रेयसुस ने कहा कि पिछले एक महीने में कोरोना वायरस से होने वाली मौतों में 35 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है. उन्होंने कहा कि पिछले हफ्ते 15,000 मौतें हुईं. उन्होंने कहा कि एक हफ्ते में 15,000 मौतें किसी भी तरह से स्वीकार्य नहीं हैं, जबकि हमारे पास संक्रमण को रोकने और जीवन बचाने के लिए सभी उपकरण हैं.

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.