US Russia: रूसी दूतावास ने अपने टेलीग्राम चैनल पर एक बयान में कहा, आज, संयुक्त राज्य अमेरिका अन्य देशों की सुरक्षा और हितों के संबंध में कार्य करना जारी रखता है, जो परमाणु जोखिम में वृद्धि में योगदान देता है.

Russia Warns US: अमेरिका में रूसी दूतावास ने चेतावनी दी है कि विश्व स्तर पर वाशिंगटन के व्यवहार से परमाणु राज्यों के बीच सीधे टकराव का खतरा है. दूतावास ने अपने टेलीग्राम चैनल पर एक बयान में कहा, आज, संयुक्त राज्य अमेरिका अन्य देशों की सुरक्षा और हितों के संबंध में कार्य करना जारी रखता है, जो परमाणु जोखिम में वृद्धि में योगदान देता है.

दूतावास ने उल्लेख किया कि वाशिंगटन ने हाल ही में दो प्रमुख हथियार नियंत्रण समझौतों, 1987 इंटरमीडिएट रेंज न्यूक्लियर फोर्सेस ट्रीटी, जिसने भूमि-आधारित मिसाइलों के कुछ वर्गों पर प्रतिबंध लगा दिया है, और 1992 की खुली आसमान पर संधि, जिसने एक दूसरे के क्षेत्रों पर निगरानी उड़ानों की अनुमति दी है, को वापस ले लिया है.

दूतावास ने अमेरिका से उन देशों के खिलाफ निराधार आरोप लगाने के बजाय अपनी परमाणु नीति पर करीब से नजर डालने का आग्रह किया, जिनके विश्व²ष्टि अमेरिकी लोगों के साथ मेल नहीं खाते हैं.

राजनयिकों ने कहा, हमारा देश एक परमाणु संपन्न राष्ट्र के रूप में अपने दायित्वों को ईमानदारी से पूरा करता है और परमाणु जोखिम को कम करने के लिए हर संभव प्रयास करता है. यह बयान अमेरिका द्वारा मास्को पर दक्षिणी यूक्रेन में जापोरोजे परमाणु ऊर्जा संयंत्र को अपने सैनिकों के लिए कवर के रूप में इस्तेमाल करने का आरोप लगाने के बाद आया है.

पुतिन ने अमेरिकी ‘आधिपत्य’ की आलोचना की

इससे पहले रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने मंगलवार को अमेरिका पर आरोप लगाया कि वह यूक्रेन में शत्रुता को बढ़ावा देने का प्रयास कर रहा है और यह वैश्विक तौर पर आधिपत्य बनाए रखने के उसके कथित प्रयासों का हिस्सा है. पुतिन ने एक सुरक्षा सम्मेलन को संबोधित करते हुए एक बार फिर दावा किया कि उन्होंने यूक्रेन में सेना इसलिए भेजी क्योंकि अमेरिका उस देश को रूस विरोधी ढाल बनाने का प्रयास कर रहा था. इस सम्मेलन में अफ्रीका, एशिया और लातिन अमेरिका के सैन्य अधिकारियों ने भी भाग लिया.

उन्होंने आरोप लगाया, उन्हें अपना आधिपत्य कायम रखने के लिए संघर्षों की जरूरत है. इसीलिए वे यूक्रेन के लोगों को बलि का बकरा बना रहे हैं. यूक्रेन की स्थिति से पता चलता है कि अमेरिका संघर्ष को लंबा खींचने का प्रयास कर रहा है, और वह ठीक उसी तरह से काम कर रहा है जिस प्रकार एशिया, अफ्रीका और लातिनी अमेरिका में संघर्ष को बढ़ावा देने की कोशिश करता रहा है.

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You missed